इंडो रूसी कंपनियां मिलकर बनाएंगी एके 203 असॉल्ट राइफल

नई दिल्ली : रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने नई दिल्ली में एक उच्च स्तरीय बैठक में एके 203 असॉल्ट राइफलों के उत्पादन के लिए उत्तर प्रदेश के कोरवा में हाल ही में लगाए गए कारखाने इंडो रूसी राइफल्स प्राइवेट लिमिटेड के संचालन की समीक्षा की। इस फैक्ट्री का उद्घाटन 03 मार्च 2019 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था।

माना जा रहा है कि इस कारखाने में हर साल लगभग 7.50 लाख एके 203 असॉल्ट राइफलें बनाई जाएंगी। इंडो रूसी राइफल्स प्राइवेट लिमिटेड भारत और रूस का एक साझा प्रोजेक्ट है। इस फैक्ट्री में बनने वाली एके 203 असॉल्ट राइफलें स्वदेशी इंसास राइफलों की जगह लेंगी। इन राइफलों को पूरी तरह से मेक इन इंडिया प्रोजेक्ट के तहत बनाया जाएगा। इस कारखाने को लगाने में लगभग 12 हजार करोड़ रुपये का खर्च आया है।

50 फीसदी भारत की हिस्सेदारी

इस कारखाने में भारत की हिस्सेदारी 50. 5 फीसदी होगी। वहीं इसमें रूस की हिस्सेदारी 49. 5 फीसदी की है।
क्या खास है एके 203 राइफल में
• एके 203 राइफल एके 47 राइफल का आधुनिक रूप है
• एके 203 राइफल 400 मीटर के दायरे से 100 फीसदी सटीक वार कर सकती है
• इंसास और एके 47 के मुकाबले यह राइफल छोटी और हल्की है
• एके 203 में आसानी से नाइट विजन डिवाइस लगाई जा सकती है
• एके 203 राइफल की कुल लम्बाई 3.25 फुट होगी
• एके 203 राइफल से एक मिनट में 600 गोलियां फायर की जा सकती हैं

शेयर करें

मुख्य समाचार

current

कर्नाटक: सरकारी हाॅस्टल के 5 छात्रों की करंट लगने से हुई मौत

बेंगलुरू : कर्नाटक में हुए दर्दनाक हादसे में एक सरकारी हॉस्टल में करंट लगने से पांच छात्रों की मौत हो गई। घटना की सूचना पाकर आगे पढ़ें »

अनुच्छेद 370 हटाने पर कांग्रेस के स्टैंड से हुड्डा नाराज

पानीपत : जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के हटाए जाने पर कांग्रेस के स्टैंड से पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा नाराज चल रहे हैं। वे पार्टी के आगे पढ़ें »

ऊपर