इंडियाबुल्स रीयल एस्सेट 1,800 करोड़ रुपये में अपनी संपत्ति बेचेगी

नयी दिल्ली : रीयल एस्टेट क्षेत्र में सक्रिय कंपनी इंडियाबुल्स ने लंदन स्थित अपनी संपत्ति 20 करोड़ ब्रिटिश पौंड (करीब 1,800 करोड़ रुपये) में अपने प्रवर्तकों को बेचने का फैसला किया है। कंपनी ने यह कदम भारत में कारोबार पर ध्यान देने और कर्ज में कटौती की रणनीति के तहत उठाया है। मालूम हो कि वित्त वर्ष 2018-19 की चौथी तिमाही के अंत में कंपनी पर कुल 4,590 करोड़ रुपये का कर्ज है। इस सौदे के पूरे होने के बाद कर्ज की रकम घटकर 3,000 करोड़ रुपये रह जाएगी।
लंदन प्रॉपर्टी बाजार सुस्त बना रहेगा
इंडियाबुल्स रीयल एस्टेट ने कहा, ”कंपनी ने सिर्फ मुंबई और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) बाजारों पर ध्यान केंद्रित करने का फैसला किया है इसलिए उसने सेंचुरी लिमिटेड को अलग करने का फैसला किया है। इस कंपनी के पास लंदन में हनोवर स्क्वायर संपत्ति है। ”कंपनी ने साथ ही यह भी कहा कि ”ब्रेक्जिट से जुड़े मुद्दों और उसे लेकर अनिश्चितता जारी रहने के कारण लंदन प्रॉपर्टी बाजार सुस्त बना रहेगा, इसलिए प्रवर्तक लंदन की मूल कंपनी को 20 करोड़ पौंड में खरीदेंगे।” कंपनी ने लंदन स्थित इस संपत्ति को 16.15 करोड़ पौंड में खरीदा था और वर्तमान में उसकी कीमत 18.9 करोड़ पौंड है।
प्रवर्तक मतदान में भाग नहीं लेंगे

इंडियाबुल्स ने कहा, ”इस सौदे के लिए शेयरधारकों समेत अन्य की मंजूरी की जरूरत होगी। यह लेनदेन संबंधित पक्ष है इसलिए प्रवर्तक मतदान में भाग नहीं लेंगे।” इस बीच, इंडियाबुल्स रीयल एस्टेट का एकीकृत शुद्ध लाभ वित्त वर्ष 2018-19 की चौथी तिमाही में 95 प्रतिशत गिरकर 108.56 करोड़ रुपये रह गया। वहीं समीक्षाधीन अवधि के दौरान कंपनी की कुल आय गिरकर 2,040.61 करोड़ रुपये रह गई।

गौरतलब है कि पूरे वित्त वर्ष 2018-19 के दौरान उसका शुद्ध लाभ गिरकर 504 करोड़ रुपये रहा, जो कि साल 2017-18 में 2,372.84 करोड़ रुपये रहा था। इस दौरान, उसकी कुल आय 2017-18 में 4,731.84 करोड़ रुपये से बढ़कर 2018-19 में 5,222.93 करोड़ रुपये हो गई।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में तीसरे दिन भी कोरोना के 800 से ज्यादा मामले, 25 की हुई मौत

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 850 नये मामले आये है आगे पढ़ें »

कोरोना की वजह से 9वीं-12वीं के पाठ्यक्रम 30 फीसदी घटे

नयी दिल्ली : कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच स्कूलों के ना खुल पाने के कारण शिक्षा व्यवस्था पर असर और कक्षाओं के समय में आगे पढ़ें »

ऊपर