आवासीय सेक्टर में रिकवरी के संकेत, 2019 की पहली तिमाही में हुए नए लॉन्च ने दिया सहारा

नई दिल्ली : भारत की प्रमुख रियल एस्टेट कंसल्टिंग फर्म सीबीआरई साउथ एशिया ने 2019 की पहली तिमाही में देश के सात बड़े बाजारों में त्रैमासिक नए लॉन्च में बढ़ोतरी देखी गई है। इसके साथ ही आवासीय अचल संपत्ति सेक्टर में रिकवरी के बहुप्रतीक्षित संकेत नजर आ रहे हैं। सीबीआरई साउथ एशिया प्राइवेट लिमिटेड के अनुसार इस सेक्टर में दिखने वाली रिकवरी में सबसे ज्यादा योगदान मिड-एंड सेगमेंट में बढ़ी हुई गतिविधियों का है, उसके बाद किफायती और हाई-एंड प्रोजेक्ट का स्था-न आता है।

जहां रेरा और जीएसटी जैसे नीतिगत सुधारों के चलते आवासीय अचल संपत्ति क्षेत्र में बहुप्रतीक्षित पारदर्शिता आई है, वहीं वर्तमान में सकारात्मक गतिविधियों का श्रेय रियल एस्टेट डेवलपर्स द्वारा आगे बढ़कर उठाए गए कदमों और ग्राहक-केंद्रित पहलों को भी जाता है। इन दोनों सुधारों के प्रभाव के कारण 2018 में नए लॉन्च और बिक्री में करीब 11% और 19% की वार्षिक वृद्धि हुई। 2018 में हुई बिक्री भी नए लॉन्च की तुलना में थोड़ी ज्यादा ही रही।

भारत, दक्षिण पूर्व एशिया और मध्य पूर्व और अफ्रीका के चेयरमैन और सीईओ, अंशुमन मैगजीन का कहना है कि
रेजीडेंशियल मार्केट में बहुप्रतीक्षित प्रगति अब नजर आने लगी है और दिल्ली-एनसीआर, मुंबई, चेन्नई, हैदराबाद और बेंगलुरु जैसे मेट्रो शहरों में रिकवरी के संकेत मिल रहे हैं। नए प्रोजेक्ट्स की स्थिति और प्रमुख सुधारों के असर के बारे में बात करते हुए वे कहते हैं कि जहां हमने नई परियोजनाएं लॉन्च करने में डेवलपर की बढ़ी हुई दिलचस्पी देखी है, वहीं ध्यान अब भी जारी परियोजनाओं को पूरा करने और मौजूदा इन्वेंट्री को खाली करने पर है। डेवलपर्स द्वारा टाइमलाइन के वादे में रेरा का प्रभाव साफ दिखता है – ये बाजार की वास्तविकताओं के ज्यादा अनुरूप हैं, जिसके चलते अंतिम सिरे का उपभोक्ता अपने घर खरीद की योजना ज्यादा असरदार ढंग से बना सकता है।

किफायती और मिड-एंड हाउसिंग सेगमेंट पर ज्यादा ध्यान दिया जाने लगा है और कुछ छोटे/स्थानीय डेवलपर्स विभिन्न शहरों में प्रोजेक्ट लॉन्च भी कर रहे हैं। आवासीय सेक्टर में पिछले वर्ष का सकारात्मक प्रभाव 2019 में भी जारी रहने की उम्मीद है, क्योंकि डेवलपर्स लगातार खुद को हालिया ढांचागत सुधारों के तालमेल में ला रहे हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

इंसानियत हुई तार-तार, गर्भवती हथिनी को अनानास में पटाखा मिलाकर खिलाया

कोच्चि : केरल में एक गर्भवती हथिनी मानवीय क्रूरता का शिकार हो गई। उसे किसी व्यक्ति ने पटाखे से भरा अनानास खाने को दिया जिसकी आगे पढ़ें »

प्रवासी कर्मियों को दिए जाएं 10-10 हजार रुपए: ममता ने केंद्र से की अपील

कोलकाता : पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को केंद्र से अपील की कि वह कोविड-19 के कारण पैदा हुए संकट के मद्देनजर आगे पढ़ें »

ऊपर