आरबीआई ने बैंकों को दिया निर्देश, इस तारीख से बेसिक बचत खातों पर मिलेंगी और सुविधाएं

नई दिल्ली: भारतीय रिजर्व बैंक ने सभी बैंकों को निर्देश दिया है कि वे एक जुलाई से बेसिक बचत बैंक जमा खातों पर ज्यादा सुविधाएं दें। बेसिक बैंक बचत जमा खातों पर मिनिमम बैलेंस की शर्त लागू नहीं होती है। आरबीआई ने अपने नोटिफिकेशन में कहा है कि बैंक ऐसे खाताधारकों पर ब्रांच, एटीएम या कैश डिपॉजिट मशीन में नकदी जमा कराने पर कोई चार्ज नहीं वसूलें। इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से भी अगर कोई पैसा भेजा जाए या मंगाया जाए, तो उस पर भी कोई चार्ज न लगे। किसी सरकारी स्कीम का पैसा चेक के जरिए आता है तो ऐसे खाता धारकों पर कोई चेक कलेक्शन फीस नहीं ली जाए।

नोटिफिकेशन में कहा गया है कि महीने में कितनी बार भी कितना भी पैसा जमा करने की सुविधा हो और यह फ्री कर दी जाए। बैंक सुविधा दे कि वे किसी भी बैंक के एटीएम से चार बार बिना किसी चार्ज के पैसा निकाल सकें। नोटिफिकेशन में बेसिक बचत बैंक जमा खातों के साथ एटीएम भी फ्री में देने को कहा गया है। बेसिक बैंक बचत जमा खातों को कोई भी व्यक्ति खोल सकेगा। ये किसी स्पेशल क्लास के लिए नहीं हैं। हालांकि, प्रति व्यक्ति अधिकतम एक ही बेसिक बचत ऐसा खाता खोला जा सकेगा। बेसिक बचत खाते पर ब्रांच, एटीएम और कैश डिपॉजिट मशीन में कैश जमा करने पर फीस नहीं लगेगा। इलेक्ट्रॉनिकली पैसा भेजने और मंगाने पर कोई चार्ज नहीं लगेगा। सरकारी स्कीमों के पैसों के लिए चेक कलेक्शन चार्ज नहीं लगेगा। सरकारी रकम की चेक से निकासी और जमा पर कोई शुल्क नहीं लगेगा।

महीने में कितनी बार भी कितना भी पैसा जमा करने की छूट दिया जाए। महीने में 4 बार पैसे निकालने की छूट हो, एटीएम निकासी सहित। बेसिक बचत बैंक जमा खातों एटीएम कार्ड भी फ्री में देना होगा। बेसिक बचत बैंक जमा खाता कोई भी ग्राहक खोल सकेगा। चेकबुक सुविधा भी बैंक को देना होगा और मिनिमम बैलेंस की शर्त न हो। ग्राहक बस एक बेसिक बचत बैंक जमा खाता खोल सकेंगे। एटीएम से कैश निकासी की छूट किसी भी बैंक एटीएम से करने की छूट दी जाए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

लोगों में पीओके की आजादी के लिये ‘जुनून’ है : ठाकुर

जम्मू : केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने सोमवार को कहा कि जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करने के बाद पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर आगे पढ़ें »

पिछले पांच-छह साल में बढ़े हैं दलितों पर अत्याचार : प्रशांत भूषण

नयी दिल्ली : भीम आर्मी द्वारा आयोजित संवाददाता सम्मेलन में सामाजिक कार्यकर्ता व वकील प्रशांत भूषण ने सोमवार को आरोप लगाया कि पिछले पांच-छह साल आगे पढ़ें »

ऊपर