आरबीआई के लक्ष्य से ज्यादा हुई महंगाई दर, खाने पीने के सामान हुए महंगे

Inflation reaches the sky in Pakistan, people are fascinated by food and grains

नई दिल्ली : एक तरफ जहां अर्थव्यवस्था में सुस्ती है तो वहीँ दूसरी तरफ इस साल अक्टूबर में खाने-पीने के सामान की कीमतों में वृद्धि के चलते खुदरा महंगाई दर (रिटेल इंफ्लेशन) बढ़कर 4.62 फीसद हो गई। आज सरकार द्वारा जारी किए गए कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स (सीपीआई) आधारित महंगाई दर के आंकड़ों के मुताबिक पिछले महीने महंगाई की दर रिजर्व बैंक के लक्ष्य से आगे निकल गई। आरबीआई ने देश में महंगाई की दर को चार फीसद तक सीमित रखने का लक्ष्य रखा है। सितंबर में महंगाई की दर 3.99 फीसद पर रही थी और पिछले साल अक्टूबर से के मुकाबले इस इस साल अक्टूबर का आंकड़ा एक फीसद से भी अधिक है। पिछले साल अक्टूबर में मुद्रास्फीति की दर 3.38 फीसद पर थी।

खाने पीने की चीजें हुई महंगी
सरकारी आंकड़ों के मुताबिक इस साल अक्टूबर में मुद्रास्फीति में वृद्धि की मुख्य वजह खाने-पीने के सामानों का महंगा होना है। खाद्य पदार्थों की कीमतों में पिछले महीने 7.89 फीसद की वृद्धि दर्ज की गयी। इस साल सितंबर में यह आंकड़ा 5.11 फीसद पर थी। आपको बता दें कि आरबीआई अपनी द्विमासिक बैठक में नीतिगत दरों की समीक्षा करता है। महंगाई के आंकड़े नीतिगत दरों के निर्धारण में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इस साल अब तक मुद्रास्फीति के काबू में रहने की वजह से ही केंद्रीय बैंक रेपो दर में कुल 1.35 फीसद तक की कटौती कर सका है। केंद्रीय बैंक ने देश में डिमांड को बढ़ावा देने के लिए रेपो रेट में कमी की है।

सितंबर में भी बढ़ी थी महंगाई
इससे पहले सितंबर में सब्जियों के दामों में 15.40 फीसद की वृद्धि हुई थी और अगस्त में सब्जी के भाव 6.90 फीसद बढ़े थे। दूसरी ओर दालों के दाम में वृद्धि की बात करें तो सितंबर में वह 8.4 फीसद पर था। पिछले महीने सीपीआई आधारित महंगाई दर रिजर्व बैंक के अनुमान के मुताबिक ही था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में कोरोना का कहर, आए सबसे ज्यादा मामले व हुई सबसे ज्यादा मौतें

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में कोरोना संक्रमण के 1088 नये मामले सामने आये है। इस दौरान 27 लोगों आगे पढ़ें »

प्रवासी मजदूरों के बीच मुफ्त अनाजों का वितरण अपेक्षा से काफी कम हुआ : पासवान

नयी दिल्ली : खाद्य आपूति एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्री राम विलास पासवान ने गुरुवार को स्वीकार किया कि प्रवासी मजदूरों के बीज मुफ्त अनाजों आगे पढ़ें »

ऊपर