आरबीआई के पूर्व डिप्टी गवर्नर ने कहा, बैंक लाइसेंस प्रक्रिया को लेकर विचार करे आरबीआई

rbi

नई दिल्ली : भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के पूर्व डिप्टी गवर्नर आर गांधी ने कहा है कि बैंक को उन नियमों पर विचार करना चाहिए, जो बड़े कॉरपेारेट घरानों को बैंकों का प्रमोटर्स बनने में रुकावट डालते हैं। बैंकिंग मॉडल पर ध्यान देने की जरूरत बताते हुए उन्होंने कहा कि आवश्यक सुरक्षा उपायों के साथ बैंकों में किसी एक निकाय को हिस्सेदारी 26 प्रतिशत से ज्यादा करने की मंजूरी दी जानी चाहिए। गांधी ने कहा कि बैंकिंग क्षेत्र में बड़ी पूंजी के स्रोतों को प्रवेश देने पर विचार करना चाहिए, इससे बड़ी परियोजनाओं की मदद होगी।

गांधी ने कहा कि बैंकिंग लाइसेंस के लिए आवेदन को लेकर खुली व्यवस्था चार साल से चल रही है, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला है।एक प्रमोटर्स या रणनीतिक निवेशक के लिये 26 प्रतिशत हिस्सेदारी बैंक और बैंकिंग उद्योग के लंबे फायदे के लिए  सही होगी।

 

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

अक्षर-अश्विन की फिरकी की जाल में फंसे अंग्रेज, 205 सिमटा इंग्लैंड

अहमदाबाद : अक्षर पटेल और रविचंद्रन अश्विन की जोड़ी ने एक बार फिर फिरकी का जाल बुनकर चौथे और आखिरी क्रिकेट टेस्ट के पहले ही आगे पढ़ें »

काम के लिए घर से निकली युवती, हाईवे पर जिंदा जल गई, किसी ने मदद का हाथ नहीं बढ़ाया

खन्ना (पंजाब): पंजाब में गुरुवार को एक युवती सड़क पर जिंदा जल गई लेकिन किसी ने उसकी मदद के लिए हाथ आगे नहीं बढ़ाया। मामला आगे पढ़ें »

ऊपर