आईटी कंपनियां 30,000 से 40,000 कर्मचारियों की करेंगी छंटनी : पई

नई दिल्ली : अर्थव्यवस्था में सुस्ती से अब आईटी क्षेत्र भी प्रभावित हुआ है। आईटी कंपनियां 30,000 से 40,000 मिड-लेवल स्टॉफ की छंटनी कर सकती है। आईटी इंडस्ट्री कंपनियां सुस्ती के चलते इसी साल इन कर्मचारियों की छंटनी कर सकती है। ये जानकारी आज आईटी क्षेत्र के जानकार मोहनदास पई ने दी।

हालाँकि आईटी कंपनी इंफोसिस लिमिटेड के पूर्व मु्ख्य वित्तीय अधिकारी ने इस छंटनी को पांच साल में एक बार होने वाली इंडस्ट्री की सामान्य घटना बताया। पई एक संवाददाता सम्मलेन में कहा कि पश्चिम में सभी सेक्टर्स की तरह ही भारत में भी सेक्टर परिपक्व होता है, तो उसमें मध्यम श्रेणी के ऐसे की कर्मचारी होते हैं, जो अपने पारिश्रमिक के बराबर योगदान नहीं देते हैं।  जब कंपनी तेजी से विकास कर रही हो, तो प्रमोशन होता है और जब सुस्ती हो, तो कंपनियों को अपने पिरामिड्स को रिसेट करना पड़ता है और छंटनी भी करनी पड़ती है। पई ने कहा कि यह हर पांच सालों में बार-बार चलता रहता है।

पई ने कहा कि परफॉर्म अच्छा नहीं कर रहे तो अधिक वेतन के भी हक़दार नहीं हैं। उन्होंने कहा कि एक साल में पूरी इंडस्ट्री में 30,000 से 40,000 मिड-लेवल के कर्मचारियों की नैकरी जा सकती है। हालांकि, पई ने कहा कि नौकरियां गवांने वाले अगर विशेषज्ञ हैं, तो करीब 80 फीसद लोगों को इंडस्ट्रीज में जॉब के मौके मिलेगें।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राष्ट्रीय मुक्त विद्यालय शिक्षा संस्थान की 10वीं, 12वीं की परीक्षाएं रद्द

नयी दिल्ली : देश में कोरोना संकट को देखते हुए राष्ट्रीय मुक्त विद्यालय शिक्षा संस्थान (एनआईओएस) की 17 जुलाई से होने वाली 10वीं और 12वीं आगे पढ़ें »

71 साल के हुए लिटिल मास्टर सुनील गावस्कर

नयी दिल्ली : क्रिकेट के सर्वश्रेष्ठ सलामी बल्लेबाज और पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर शुक्रवार को 71 वर्ष के हो गए और उनके जन्मदिन पर आगे पढ़ें »

ऊपर