अमेरिकी विमान कंपनियों की भारतीय रक्षा क्षेत्र पर नजर, फाइटर जेट एफ-16 का सेटअप भारत में लाने की योजना

नई दिल्ली : अमेरिकी विमान कंपनी बोइंग की निगाह अब भारत के रक्षा क्षेत्र पर है. बोइंग की निगाह भारत के अरबों डॉलर के लड़ाकू जेट बाजार पर है और उसने भारत के साथ मिल कर एफ-ए-18 सुपर हॉर्नेट अपग्रेड्स के विकास के लिए विमान निर्माण का अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी परिवेश बनाने की पेशकश की है. कंपनी यह काम भारत के आधुनिक मध्यम लड़ाकू विमान (एएमसीए) कार्यक्रम के तहत करना चाहती है.

अमेरिका की दो प्रमुख कंपनियों की निगाह भारत के लड़ाकू जेट बाजार पर है. लड़ाकू जेट विनिर्माता कंपनियां बोइंग और लॉकहीड मार्टिन भारतीय रक्षा क्षेत्र में काम करना चाहती हैं. लॉकहीड मार्टिन ने एफ-16 विनिर्माण के पूरे आधार को भारत लाने की पेशकश की है. बोइंग इंटरनेशनल के अध्यक्ष एवं बोइंग कार्यकारी परिषद के सदस्य मार्क एलन ने कहा कि पूर्ण पारिस्थितिकी क्षमता के लिए इसमें आपूर्ति श्रृंखला का निर्माण, इंजीनियरिंग क्षमता का निर्माण और तकनीकी मेकेनिकल क्षमता शामिल है.

बोइंग ने पेशकश किया है कि भविष्य के एफ-ए-18 सुपर हार्नेट का अपग्रेड का भारत में संयुक्त रूप से विकास किया जा सकता है. एलन ने कहा कि बोइंग का इरादा अगले एकाध साल में भारत में अपने इंजीनियरों की संख्या को तीन हजार से पांच हजार करने का है.

शेयर करें

मुख्य समाचार

निर्यात में आई 50 प्रतिशत तक की तेजी, विदेशों से आने लगे ऑर्डर

नई दिल्ली : कोरोना महामारी से देश के निर्यात क्षेत्र तेजी से बाहर आ रहा है। भारत को अमेरिका व यूरोप से ऑर्डर मिलना शुरू आगे पढ़ें »

गंगा दशहरा : बंगाल में लॉकडाउन छूट के बीच श्रद्धालुओं ने की मां गंगा की अराधना

कोलकाता : कोरोना महामारी से सचेत और सतर्क बंगाल के श्रद्धालु सोमवार को गंगा दशहरा के अवसर पर कुछ अपने-अपने घरों में और कुछ ही आगे पढ़ें »

ऊपर