अब रेलगाड़ियों को रेलवे की पीएसयू चलाएंगी

नई दिल्ली : भारतीय रेलवे में रेलगाड़ियों को चलाने का काम अब रेलवे के पीएसयू या अन्य संस्थाएं करेंगी। शुरूआत में रेलवे दो रेलगाड़ियों के परिचालन की जिम्मेदारी रेलवे के उपक्रम आईआरसीटीसी को देने जा रहा है। ये दोनों ट्रेनें बेहद खास ट्रेनें होंगी और आईआरसीटीसी रेलवे के नेटवर्क पर इन ट्रेनों को चलाने के लिए रेलवे को शुल्क भी देगा।

रेल मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक जल्द ही आईआरसीटीसी को दो तेजस ट्रेनें चलाने के लिए दी जाएंगी। इनमें से एक रेलगाड़ी दिल्ली से लखनऊ के बीच चलेगी, वहीं दूसरी दक्षिण भारत में चलाई जाएगी।  रेलवे की ओर से आईआरसीटीसी को पत्र लिख कर कहा गया है कि वो 10 जुलाई तक एक विस्तृत प्रस्ताव बना कर भेजें कि वो किस तरह इन ट्रेनों का परिचालन करेंगे और ट्रेन को चलाने को ले कर क्या नियम व शर्तें होंगी। आईआरसीटीसी को जो ट्रेनें दी जाएंगी उन ट्रेनों को हॉलेज कांसेप्ट पर चलाया जाएगा। इसके तहत रेलगाड़ी को चलाने, उसकी टिकटिंग व ऑन बोर्ड सर्विस की जिम्मेदारी आईआरसीटीसी की ही होगी।

दरअसल एक ट्रेन या एक डिब्बे को एक स्टेशन से दूसरे स्टेशन तक पहुंचाने में रेलवे का एक खर्च आता है। इस खर्च को ही हॉलेज कहते हैं। रेलवे हॉलेज चार्ज के तहत जिसे भी ट्रेन देगी उससे गाड़ी को रेलवे के नेटवर्क पर चलने में आने वाले खर्च और उस पर कुछ मुनाफा लेगी। बाकी ट्रेन के चलने में फायदा हो या नुकसान यह जिम्मेदारी उस ट्रेन को चलाने वाले की होगी।

रेल मंत्रालय द्वारा तैयार किए गए 100 दिन के एक्शन प्लान के तहत आने वाले दिनों में प्रीमियम रेलगाड़ियों को चलाने का काम निजी ऑप्रेटर्स को दिया जाना है। इन प्रीमियम ट्रेनों में राजधानी व शताब्दी रेलगाड़ियां भी हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

नीम का तेल है बहुत उपयोगी, इन समस्याओं में है कारगर

नई दिल्ली : नीम एंटी बैक्टीरियल गुणों से भरपूर होता है, जिसके कारण यह कई स्वास्थ समस्याओं के लिए अचूक दवा मानी जाती है। सर्दियों आगे पढ़ें »

International Film Festival of India

भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव का जल्द होगा आगाज,यह वर्ष है कुछ खास

नई दिल्ली : गोवा में आयोजित होने वाले भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) का समय आ गया है। इस वर्ष का महोत्सव कुछ खास है आगे पढ़ें »

ऊपर