अडाणी समूह का बैंकों से लिया कर्ज एनपीए बनने के आरोपों का खंडन

नयी दिल्ली: अडाणी समूह ने शनिवार को बैंकों का कर्ज नहीं चुकाने के आरोपों को खारिज कर दिया। समूह ने कहा कि उसे अस्तित्व में आये तीन दशक हो गये हैं। इस दौरान उसका रिकॉर्ड बेदाग रहा है। एक भी बैंक कर्ज गैर-निष्पादित आस्ति (एनपीए) नहीं बना है। ट्विटर पर जारी बयान में समूह ने कहा कि उसने देश में बड़ी बुनियादी ढांचा संपत्तियों का निर्माण किया है और इसके लिए मजबूत कामकाज के संचालन तथा पूंजी प्रबंधन प्रक्रियाओं को अपनाया है।
मालूम हो कि भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने शुक्रवार को अडाणी समूह के एनपीए के बारे ट्वीट कर कहा था कि अडाणी पर अब बैंकों का 4.5 लाख करोड़ रुपये का एनपीए है। यदि मैं गलत हूं तो उसे सुधारें। फिर भी 2016 से उनकी संपत्ति हर दो साल में दोगुना हो रही है। वह बैंकों के बकाये का भुगतान क्यों नहीं कर रहे? जैसे उन्होंने छह हवाईअड्डे खरीदे हैं, वैसे ही वह उन बैंकों को भी खरीद लेंगे, जिनका कर्ज बकाया है। अडाणी ने शनिवार को स्वामी के ट्वीट में बताये गये आंकड़ों को ‘गलत और काल्पनिक’ बताया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

104 डिग्री मिला तापमान तो अंत में ही दे सकेंगे वोट

चुनाव आयोग की कोरोनाकाल में विशेष गाइडलाइन सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः कोरोना काल में विधानसभा चुनाव में संक्रमण से बचाव के लिए चुनाव आयोग ने विशेष पहल की आगे पढ़ें »

चुनाव में काले धन का उपयोग न हो, इसके लिए आयकर के नोडल अधिकारी सक्रिय

23 जिलों में नोडल ऑफिसर नियुक्त सन्मार्ग संवाददाता चुनाव की घोषणा के बाद आयकर विभाग रख रहा है पैंनी नजर कोलकाता : बंगाल में चुनावी बिगुल बजने के आगे पढ़ें »

ऊपर