सफाई कर्मचारी से करोड़पति बनने का राज क्या है?

अनुव्रत के करीबी का मवेशी तस्करी मामला
बोलपुरः नगरपालिका के एक मामूली सफाई कर्मचारी के तौर पर अपने करियर की शुरुआत करने वाला इंसान किस चमत्कार की बदौलत करोड़पति बन जाता है। यही जानने के लिए सीबीआई के अधिकारियों ने अनुव्रत के एक और करीबी के घर छापेमारी की है। सीबीआई की टीम रविवार की दोपहर फिर कालिकापुर पहुंच गयी। कालिकापुर में बोल बम राइस मिल के बाद सीबीआई जांच अधिकारियों ने कालिकापुर में ही एक और घर पर छापा मारा है जिसके मालिक विद्युत बरन गायेन हैं। उन्हें जानने वाले लोग विद्युत गायेन को अनुव्रत का ‘मानसपुत्र’ कहते हैं।
एक अदना सा व्यक्ति कुछ ही सालों में वह दो कंपनियों का निदेशक बन गया जिसमें अनुव्रत की बेटी सुकन्या मंडल भी शामिल है। इन दोनों कंपनियों के नाम हैं-एएनएम एग्रोकेम फूड्स प्राइवेट लिमिटेड और नीर डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड। इन कंपनियों का दफ्तर कालिकापुर हरधन मंडल रोड पर है। इसी जगह पर अणुव्रत का बोल बम राइस मिल भी है। इस ‘राइसमिल मिस्ट्री’ कहानी का एक मुख्य किरदार यही विद्युत गायन है। सीबीआई की जांच में यही बात सामने आयी है। आरोप है कि बोल बम राइस मिल के साथ ही अनुव्रत की बेटी सुकन्या मंडल और विद्युत गायन की दोनों कंपनियां भी अनुव्रत के कथित अवैध लेनदेन के लिए गलियारे के तौर पर इस्तेमाल की गई हैं।विद्युत गायन पहले ही सीबीआई की नजर में आ चुका था। इसीलिए सीबीआई की टीम उसके घर पहुंच गयी। चालीस मिनट तक सीबीआई की टीम वहीं थी। हालांकि विद्युत गायन घर पर नहीं था। सीबीआई अधिकारियों ने विद्युत की पत्नी से बात की। पता चला कि कुछ महीनों से विद्युत गायेन का कोलकाता में इलाज चल रहा है। लीवर की बीमारी की वजह से वह काफी समय से बिस्तर पर हैं। आरोप है कि विद्युत गायन ही अनुव्रत के भ्रष्टाचार के गढ़ की सबसे बड़ी खिड़कियों में से एक है। माना जा रहा है कि विद्युत से पूछताछ करने के बाद अनुव्रत के कारोबार के सारे तथ्य सामने आ जायेंगे।
आरोप है कि अनुव्रत के लेनदेन का हिसाब-किताब विद्युत ही रखा करता था। उसमें अनुव्रत की बेटी भी साथ होती थी। इसी वजह से विद्युत से पूछताछ करने के बाद सीबीआई के अधिकारियों को उम्मीद है कि उन्हें बहुत कुछ मालूम हो जायेगा।
विद्युत की पहुंच कितनी अधिक है इसका सहज अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि वही अनुव्रत की कंपनियों में संयुक्त निदेशक के पद पर है। कालिकापुर में विद्युक के दो मकान हैं। एक में कोई नहीं रहता। दूसरा मकान बोलपुर में है। इसके अलावा कोलकाता में भी विद्युत गायन का फ्लैट है। इसके अलावा सियान मुलुक इलाके में उनकी बड़ी जमीन है। इतना ही नहीं आरोप है कि अनुव्रत का खास आदमी बनने के बाद विद्युत ने बोलपुर के जंबूनी में अपने दामाद के लिए शराब की दुकान खुलवा दी। नतीजतन, विद्युत के करोड़पति बनने का राज उससे पूछताछ करने के बाद सामने आ ही जायेगा। विद्युत के मुंह खोलने पर ही पता चलेगा कि वह कंपनी के निदेशक कैसे बने और कथित काले कारोबार में उसकी क्या भूमिका है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अब दूसरे मामले में नौशाद सिद्दीकी को 6 दिनों की पुलिस हिरासत

पंचायत चुनाव तक मुझे जेल में रखना चाहती है तृणमूल - नौशाद सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : भांगड़ से आईएसएफ विधायक नौशाद सिद्दीकी को शुक्रवार को 6 दिनों आगे पढ़ें »

शुभेंदु के बाद दिलीप और मिठुन ने भी कहा, ‘अल्पसंख्यक विरोधी नहीं है भाजपा’

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : राज्य में पंचायत चुनाव होने वाले हैं और अगले साल लोकसभा चुनाव भी है। ऐसे में भाजपा अभी से खुद को आगे पढ़ें »

ऊपर