फॉरवर्ड ब्लॉक से बहिष्कृत किये गये विक्टर

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : फॉरवर्ड ब्लॉक के पूर्व विधायक अली इमरान रम्ज (विक्टर) को पार्टी की केंद्रीय कमेटी ने आखिरकार बाहर का रास्ता दिखा दिया। पार्टी विरोधी कार्यों के कारण उन्हें फाब से बहिष्कृत कर दिया गया है। इस बारे में ऑल इंडिया फाब की केंद्रीय कमेटी के महासचिव देवव्रत विश्वास की ओर से प्रेस विज्ञप्ति जारी कर जानकारी दी गयी। इसमें कहा गया है कि पार्टी विरोधी कार्यों के कारण उन्हें बहिष्कृत किया जा रहा है। इससे पहले गत 20 जून को उन्हें शो कॉज किया गया था, लेकिन इसका कोई जवाब विक्टर ने नहीं दिया। वहीं फाब की बंगाल कमेटी ने गत 26 जुलाई को केंद्रीय कमेटी को पत्र भेजकर विक्टर के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की थी। गत 21 अगस्त को केंद्रीय कमेटी की ओर से उन्हें पत्र भेजकर उनके कार्यों की व्याख्या मांगी गयी थी, लेकिन आज तक उन्होंने पत्र का काेई जवाब नहीं दिया। पत्र में कहा गया है कि​ विक्टर ने पार्टी विरोधी गति​विधियां जारी रखीं और पार्टी की छवि धूमिल करने की कोशिश की। पार्टी के अंदर ही उन्होंने कई ग्रुप बनाने की कोशिश भी की। वह चुनाव आयोग के कार्यालय में गये और दो बार ​जिस पार्टी चिह्न से जीत हासिल की थी, उसे भी हटाने की मांग की। पार्टी ने कम समय में उन्हें कई पद दिये, लेकिन वह लगातार पार्टी की छवि बिगाड़ते रहे। इस कारण केंद्रीय कमेटी द्वारा अली इमरान रम्ज को पार्टी से बहिष्कृत करने का निर्णय लिया गया है।
पार्टी का झण्डा बदल दिया, बना लिया था अलग मंच
फॉरवर्ड ब्लॉक में उस समय विद्रोह की आग देखी गयी जब प्रदेश नेतृत्व के एक वर्ग ने संवाददाता सम्मेलन कर पृथक आजाद हिन्द मंच का गठन कर लिया। पार्टी का झण्डा भी बदल दिया गया जिसमें कूदते हुए बाघ समेत कास्ते हतौड़ी को दिखाया गया। पार्टी के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले फाब नेताओं में ऑल इंडिया फाब की पश्चिम बंगाल कमेटी की सचिवमण्डली के सदस्य अली इमरान रम्ज उर्फ विक्टर भी थे। दरअसल, फाब ने निर्णय लिया था कि पार्टी के झण्डे में बाघ रहेगा, लेकिन कास्ते हतौड़ी हटा दिया जायेगा। हालांकि विक्टर समेत कुछ नेता ये मानने को राजी नहीं थे। वहीं झण्डे का रंग लाल के बदले तिरंगे के रंग का करने भी विरोध उन्होंने किया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

एसएससी मामले में गिरफ्तार सुबीरेश भट्टचार्य को 10 दिनों की जेल हिरासत

अदालत ने सीबीआई के जांच अधिकारी की लगायी क्लास जज ने पूछा- क्यों चाहिए सीबीआई हिरासत वजह बताईए सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : सोमवार को एसएससी मामले में गिरफ्तार आगे पढ़ें »

विदेश में नौकरी देने के नाम पर अपहरण मामले में और 7 गिरफ्तार

अभियुक्तों में मकान मालिक और दो दिल्ली के एजेंट भी शामिल सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : विदेश में नौकरी देने के नाम पर अपहरण मामले में और सात आगे पढ़ें »

ऊपर