दार्जिलिंग पहाड़ियों की वादियों में फिर छुक-छुक कर दौड़ने लगी ट्वॉय ट्रेन

– ट्वॉय ट्रेन के चालू होने से पर्यटकों में खुशी की लहर
– दुर्गापूजा से पहले पर्यटन उद्योग की स्थिति में सुधार की उम्मीद
सन्मार्ग संवाददाता
सिलीगुड़ी : बाधाओं पर काबू पाने के बाद ट्वॉय ट्रेन सेवा आखिरकार पटरी पर लौट आई। करीब 12 दिनों बाद मंगलवार ट्वॉय ट्रेन यात्रियों को लेकर एनजेपी से पहाड़ी शहर दार्जिलिंग के लिए चल पड़ी। पहाड़ व मैदानों को जोड़ने वाली ट्वॉय ट्रेन सेवा के वापस चालू होने से पर्यटकों में खुशी का आलम है। पूजा को लेकर मुनाफे की आस में पर्यटन व्यवसायियों ने अभी से ही बुकिंग करना शुरू कर दिया हैं। उल्लेखनीय है कि सितंबर महीने की पहली तारीख को तिनधरिया व रंगटोंग के बीच 17 मील के इलाके में भूस्खलन हुआ था। जिस कारण ट्वॉय ट्रेन लाइन पर मलवा गिरने से रेलवे ट्रैक पूरी तरह बंद हो गया था। दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे प्राधिकरण ने घटना के कारण उस दिन से एनजेपी-दार्जिलिंग ट्वॉय ट्रेन सेवा को निलंबित करने का फैसला किया था। साथ ही ट्वॉय ट्रेन लाइन को उसकी मूल स्थिति में बहाल करने और मलवे को हटाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई थी। हालांकि, ट्वॉय ट्रेन लाइन को पटरी से उतारकर वापस अपनी मूल स्थिति में लाने की प्रक्रिया रेलवे के लिए काफी बड़ी चुनौती थी।
एक ओर जहां लाइन को पटरी से उतारकर उसकी मूल स्थिति में लाने का प्रयास किया जा रहा था। वहीं दूसरी ओर कभी-कभार बारिश व उसके बाद एक ही स्थान पर भूस्खलन के कारण एनजेपी से ट्वॉय ट्रेन सेवाओं को लगातार 12 दिनों तक निलंबित कर दिया गया है। आखिरकार सभी बाधाओं को दूर कर ट्वॉय ट्रेन लाइन का नवीनीकरण किया गया।
क्या कहना है दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे के निदेशक एके मिश्रा का
दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे के निदेशक एके मिश्रा ने कहा कि सभी बाधाओं को पार करने के बाद स्थिति सामान्य हो गई है। एनजेपी-दार्जिलिंग ट्वॉय ट्रेन सेवा 12 दिनों तक ठप रहने के बाद मंगलवार 31 पर्यटकों को लेकर दार्जिलिंग के रास्ते दौड़ पड़ी। पूजा से पहले एनजेपी-दार्जिलिंग ट्वॉय ट्रेन सेवा को लंबे समय के लिए निलंबित कर देने से पर्यटन व्यवसायी चिंतित हो गए थे। परन्तु इस दिन सेवा वापस सामान्य होने से उनके चेहरों पर मुस्कान आ गयी है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

विसर्जन के बाद नदी से अवशेष हटायेगा पोर्ट

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : मूर्तियाें के विसर्जन के बाद हुगली नदी में प्रदूषण फैलने से रोकने के लिए हर साल ही श्यामा प्रसाद मुखर्जी पोर्ट आगे पढ़ें »

दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान बाढ़ में डूबने से 7 लोगों की मौत

मालबाजार: मालबाजार शहर से सटे माल नदी में अचानक बाढ़ आने से विसर्जन का कार्यक्रम को प्रशासन के तरफ़ से रोक दिया गया है । आगे पढ़ें »

ऊपर