दशमी के दिन महानगर के गंगा घाटों पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

शोभायात्रा में डीजे बजाने पर कोलकाता पुलिस ने लगाया है रोक
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : महानगर में प्रतिमा विसर्जन के शोभायात्रा में डीजे बजाने पर पुलिस द्वारा रोक लगा दी गयी है। कोई भी पूजा कमेटी डीजे न बजाए,यह सुनिश्च‌ित करने के लिए कोलकाता के 238 महत्वपूर्ण जगहों पर पुलिस पिकेट बैठायी गयी है। इन जगहों पर कोलकाता पुलिस के कर्मी और अधिकारी मौजूद रहेंगे। दशमी के दिन से महानगर में प्रतिमाओं का विसर्जन चालू हो गया है। महानगर के कई बड़ोवारी पूजा अभी भी दशमी के जिदन प्रतिमा विसर्जन करते हैं। इसके अलावा मकान और आवासन के पूजा पंडाल के प्रतिमा भी दशमी के दिन ही विसर्जित होते हैं। इसके अलावा बड़े पूजा पंडालों में दर्शनार्थ‌ियों की भीड़ के कारण पूजा पंडाल में पुलिस कर्मियों की तैनाती रहेगी। लालबाजार के सूत्रों ने बताया कि दशमी की दोपहर से ही कोलकाता के 35 घाटों पर पुलिस का कड़ा पहरा है. इसमें घाट में सिर्फ पानी घाट पर प्रतिनमा विसर्जन नहीं होगा। शेष 34 घाटों पर मूर्तियों की विसर्जन की जाएगी। इसके लिए नगर निगम के अधिकारी पुलिस के साथ घाट का दौरा कर चुके हैं। सभी घाटों को साफ रखा गया है। घाटों पर पर्याप्त रोशनी की व्यवस्था की गई है। वहीं, दक्षिणी उपनगरों और बेहला क्षेत्र में कुल 34 तालाबों, झीलों और झीलों को बंद करने के लिए पहचाना गया है। उनके पास पर्याप्त पुलिस व्यवस्था भी है। कोलकाता जल पुलिस के चार लॉन्च सुरक्षा के लिए कोलकाता और हावड़ा की ओर घाटों के आसपास गश्त करेंगे। ग्वालियर घाट, आउटराम घाट और निमताला घाट पर तीन पुलिस कैंप हैं।15 महत्वपूर्ण घाटों पर अतिरिक्त संख्या में सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं, जहां से अधिकांश मूर्तियों का निस्तारण किया जाता है। जल पुलिस कार्यालय में रेस्क्यू टीम तैयार की जा रही है। पांच गोताखोर हैं। बड़े कदमतला घाट पर एक विशेष प्रक्षेपण में 6 गोताखोर हैं। साथ ही बागबाजार घाट, बड़े कदमतला घाट, ग्वालियर घाट और नीमतला घाट पर डीएमजी के विशेष बल तैनात हैं। निगरानी के लिए सात घाटों पर वॉच टावर हैं। प्रत्येक घाट पर एक निरीक्षक के अधीन एक पुलिस दल तैनात है, जिसकी निगरानी सहायक आयुक्त और उपायुक्त करेंगे।
238 सड़कों और महत्वपूर्ण जंक्शनों पर पुलिस पिकेट हैं। उत्तरी कोलकाता में निमताला घाट स्ट्रीट, विवेकानंद रोड और रवींद्र सारणी दक्षिण कोलकाता में रासबिहारी एवेन्यू, गरियाहाट मोड़ जैसी जगहों पर एसी पिकेट ड्यूटी पर रहेंगे। इसके अलावा कुछ पिकेट के प्रभारी निरीक्षक हैं और बाकी के प्रभारी उप निरीक्षक स्तर के अधिकारी हैं। पिकेट पर बैठे पुलिस अधिकारी यह सुनिश्चित करेंगे कि समर्पण जुलूस के दौरान कोई डीजे नहीं बजाया जाए। अगर कोई डीजे बजाता है या पुलिस के पास ऐसी कोई शिकायत आती है तो पुलिस तुरंत उस पूजा कमेटी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेगी। आयोजकों को गिरफ्तार भी किया जा सकता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

शुभेंदु ने दिया डेडलाइन : 12, 14 और 21 दिसंबर है महत्वपूर्ण

कोलकाता : इस वक्त की बड़ी खबर आ रही है कि भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी ने बड़ा दावा किया है। उन्होंने दिसंबर में हाेने वाले आगे पढ़ें »

पार्टी कार्यकर्ताओं का पीएम मोदी ने किया अभिवादन, दे​खिए वीडियो

नई दिल्ली : बीजेपी मुख्यालय में गुजरात की प्रचंड जीत का जश्न मनाया जा रहा है। इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी वहां पहुंच गए आगे पढ़ें »

ऊपर