फिर बढ़े दाम : पेट्रोल 109.79 रु. तथा डीजल 101.19 रु.

दस महीनों में करीब 30 फीसदी तक दाम में आया उछाल
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : एक साल से पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों से लोग बेहाल हैं। इन दिनों लगभग रोज ही ईंधन की कीमतों में इजाफा हो रहा है। रविवार को भी डीजल व पेट्रोल के दाम बढ़ गये। इस दिन पेट्रोल 109.79 रु. तथा डीजल 101.19 रु. हो गया। उत्सव का महीना अक्टूबर में दाम इतने ज्यादा बढ़े कि महंगाई से आम लोगों के घर का बजट बिगड़ गया। लोग यह समझ नहीं पा रहे हैं कि आखिर इस महंगाई पर कब अंकुश लगेगा। इस साल की शुरूआत से ईंधन की कीमतों पर गौर करें तो पेट्रोल और डीजल के दाम में करीब 30 फीसदी इजाफा हुआ है।
10 महीने में इतने बढ़ गये दाम
पूरे साल ही ईंधन की कीमतों में इजाफा देखने को मिल रहा है। 1 जनवरी को कोलकाता में पेट्रोल का भाव 85.19 रुपये प्रति लीटर था और डीजल 77.44 रुपये बिक रहा था। वहीं 31 अक्टूबर को दाम बढ़कर पेट्रोल 109.79 रु. तथा डीजल 101.19 रु. हो गया। बात करें अन्य शहरों की तो इसी तरह दिल्ली में पहला जनवरी पेट्रोल का भाव 83.71 रुपये प्रति लीटर था, जबकि डीजल 73.87 रुपये प्रति लीटर बिक रहा था। 31 अक्टूबर को दिल्ली में पेट्रोल 109.34 तथा डीजल 98.07 हो गया। वेस्ट बंगाल पेट्रोलियम डीलर्स के ज्वांइट सेक्रेटरी प्रसेनजीत सेन ने सन्मार्ग को बताया कि इन दस महीनों में कोलकाता में पेट्रोल की कीमतों में करीब 30 % तथा डीजल के भाव करीब 31 % बढ़ गये।
एक नजर इस पर (31 अक्टूबर)
कोलकाता – पेट्रोल 109.79 रु. तथा डीजल 101.19 रु.
मुंबई – पेट्रोल 115.15 तथा 106.23 रु.
दिल्ली – पेट्रोल 109.34 तथा डीजल 98.07
चेन्नई – 106.04 तथा डीजल 102.25
क्या कहना है पेट्रोलियम डीलर्स का
प्रसेनजीत सेन ने बताया कि तेल की लगातार बढ़ती कीमतों के खिलाफ हमलोगों का प्रतिवाद जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि अभी हाल में कोलकाता व जिलों में करीब 480 से 500 पेट्रोल पंपों पर प्रतिवाद किया गया था। आगे इससे भी बड़ा आंदोलन किया जायेगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

माल हादसे के बाद महानगर के विसर्जन घाटों में बढ़ी सुरक्षा

पूजा आयोजकों को नहीं है नदी में जाने की अनुमति सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : विजयादशमी के शाम जलपाईगुड़ी के माल नदी में हरपा बान में आठ लोगों आगे पढ़ें »

महापंचमी से लेकर विजय दशमी तक मेट्रो में 39.2 लाख यात्री हुए सवार

कोलकाता : दुर्गापूजा पर इस बार यानी कोविड के दो सालों के बाद 39,20,789 यात्रियों ने सफर किया। यह फुटफाल महापंचमी से लेकर विजयदशमी तक आगे पढ़ें »

ऊपर