सीआईडी अधिकारी बताकर महिला ने युवक से ठगे 5 लाख रुपये

स्वास्थ्य विभाग में नौकरी दिलवाने का दिया था झांसा
महिला के परिवार ने लगाया उसे झूठे मामले में फंसाने का आरोप
नदियाः सीआईडी में ऊंचे ओहदे पर कार्यरत होने का झांसा देकर मुहल्ले के एक युवक से पांच लाख रुपये ठगने का आरोप कृष्णानगर पालिका के वार्ड नंबर 5 की बाशिंदा राधारानी विश्वास पर लगा है। फर्जी आईएएस अधिकारी देवांजन की तरह ही उसने भी भवानी भवन में कार्यरत डीएसपी रैंक की सीआईडी अधिकारी होने का परिचय उसे दिया था। आरोप है कि उसने समाजसेवी के रूप में सत्ताधारी पार्टी में अपनी पैठ बना रखी है। स्थानीय लोगों का आरोप है कि कोरोना काल के दौरान तृणमूल के राशन बंटन कार्यक्रम के अलावा पार्टी के कई कार्यक्रमों में महिला को सक्रिय भूमिका में देखा गया है। महिला के मुहल्ले के युवक गौरव चटर्जी का आरोप है कि अपने ओहदे और उंचे रसूल का वास्ता देकर राधारानी विश्वास ने 8 लाख रुपये के बदले उसे स्वास्थ्य विभाग में नौकरी दिलवाने का प्रलोभन दिया। उनकी बातों पर विश्वास कर पैसों के बदले नौकरी पाने के लिए वह राजी हो गया। अपने घर बुलाकर महिला ने आवेदन पत्र भरवाया फिर बताया कि ई मेल के जरिये नौकरी का कंफर्मेशन उसे मिलेगा। उससे पहले पांच लाख रुपये एडवांस देने पड़ेंगे। इधर-उधर से कर्ज लेकर किसी तरह से रकम जोगाड़ कर फरवरी महीने में उसने राधारानी को पांच लाख रुपया दिये। फिर 2 मार्च को बगुला अस्पताल में मेडिकल जांच के लिए उसके पास ई मेल आया। नियत तिथि पर मेडिकल जांच कराने वह वहां पहुंचा । वहां विभिन्न जगहों से आये 25-30 युवक उपस्थित थे। सभी के साथ उसका भी मेडिकल हुआ। जांच के लिए उससे 5 हजार रुपये लिये गये। कई महीने बीतने पर उसने अपने ज्वाइनिंग को लेकर राधारानी से पूछताछ की जिसपर उस महिला ने उससे गोलमोल बातें की। उसकी बातों से ही उसे ठगे जाने का अहसास हुआ। तब पीड़ित गौरव ने कोतवाली थाने में उसके खिलाफ शिकायत दर्ज करायी। पांच नंबर वार्ड के पूर्व पार्षद के पति तथा स्थानीय तृणमूल नेता विश्वजीत चक्रवर्ती ने बताया कि गौरव की शिकायत सुनकर वे उस वेव साईट की जांच किये जिस पर नौकरी का कंफर्मेशन आया था। उनका आरोप है कि वह साइट फर्जी है। मेडिकल में भी घपला हुआ है। केवल छाती का एक्सरे कर व सफेद कागज पर हस्ताक्षर करवाकर छोड़ दिया गया था। उधर सारे आरोपों को खारीज करते हुए राधारानी की बेटी तियासा विश्वास ने पलटा आरोप लगाया कि उसकी मां सीआईडी में नौकरी नहीं करती। उन्हें बदनाम करने के लिए इस प्रकार से झूठा आरोप लगाये गये हैं। जांच में उतरी पुलिस ने शिकायत के आधार पर सबूत जुटाने में लगी है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

चतुर्थी से महानगर की सड़कों पर सुरक्षा की कमान संभालेंगे पुलिस कर्मी

5 हजार पुलिस और 10 हजार अस्थायी होम गार्ड रहेंगे तैनात तीन शिफ्टों में काम करेंगे पुलिस कर्मी कोलकाता : कोविड काल के बाद इस साल आयोजित आगे पढ़ें »

शुगर से पाना चाहते हैं छुटकारा! आज से ही शुरू करें ये काम

कोलकाताः मौजूदा भाग दौड़ के दौर में शुगर की समस्या बेहद आम हो चली है। खराब खानपान और जीवनशैली के चलते शुगर के मरीजों की आगे पढ़ें »

ऊपर