मदरसा बोर्ड पर झूल रही है सीबीआई जांच की तलवार

जस्टिस गांगुली के रुख से कुछ ऐसा ही नजर आता है आसार
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : क्या प्राइमरी और एसएससी के बाद वेस्ट बंगाल मदरसा बोर्ड की जांच भी सीबीआई को सौंपी जाएगी। इस मामले की सुनवायी कर रहे जस्टिस अभिजीत गंगोपाध्याय के रुख से तो कुछ ऐसा ही आसार नजर आता है। अलबत्ता मदरसा बोर्ड ने पिटिशनर का इंटरव्यू लेने और इसकी वीडियोग्राफी की जाने पर वृहस्पतिवार को अपनी सहमति जता दी। यहां गौरतलब है कि बुधवार को जस्टिस गंगोपाध्याय ने बोर्ड के एडवोकेट को इस बाबत अपना रुख स्पष्ट करने का आदेश दिया था।
अब्दुल हमीद ने यह पिटिशन दायर करते हुए आरोप लगाया था कि उसने ओएमआर सीट में बी वाले गोले को ही भरा था। इसके बावजूद सी वाले गोले भर कर उसे लिखित परीक्षा में फेल कर दिया गया था। बोर्ड की तरफ से पैरवी करते हुए एडवोकेट कमलेश भट्टाचार्या ने कहा कि अगर सी वाले गोले को मान लिया जाए तो पिटिशनर फेल है और अगर इसे नहीं माना जाए तो पिटिशनर पास है। एडवोकेट भट्टाचार्या ने उसे पास मानते हुए कहा कि उसे इंटरव्यू में बैठने दिया जाएगा। जस्टिस गंगोपाध्याय ने कहा कि वे इस मामले में 15 दिसंबर को दोपहर दो बजे अपना आदेश देंगे। इसके साथ ही कहा कि इस आदेश में सीएफएसएल की रिपोर्ट में कुछ पैरों का विस्तृत रूप से हवाला दिया जाएगा। यहां गौरतलब है कि इस ओएमआर सीट को फोरेंसिक जांच के लिए भेजा गया था। फोरेंसिक रिपोर्ट में कहा गया है यह यकीन करना बेहद मुस्किल है कि किसी एक व्यक्ति ने ओएमआर सीट में छेड़छाड़ की थी और इसे कोई संगठन ही कर सकता है। जस्टिस गंगोपाध्याय ने इस मामले को डिस्पोज नहीं किया है बल्कि इसे बहाल रखा है। जस्टिस गंगोपाध्याय ने सुनवायी के दौरान कहा था कि यह जांच करना बेहद जरूरी है कि गोले में हेरफेर किसने किया था। फोरेंसिक रिपोर्ट में छेड़छाड़ की जाने की पुष्टि की गई है। बस इसी मुकाम पर आकर यह सवाल उभर आता है कि क्या इसकी जांच भी सीबीआई को सौंपी जाएगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

‘दरवाजा खोला तो गिर जाएगी भाजपा’

पूर्व मिदनापुर : बंगाल की राजनीति में इस दिसबंर बड़ा धमाल होगा। भाजपा इसे लेकर बराबर दावे करती आ रही है। इस बीच शनिवार को आगे पढ़ें »

निकासी नाले की सफाई को केंद्र कर तृणमूल के दो गुटों में संघर्ष, 8 गिरफ्तार

बारासात : बारासात अंचल के देगंगा थाना अंतर्गत रायपुर इलाके में डेंगू प्रतिरोध व सचेतना को लेकर निकासी नालों की साफ-सफाई को केंद्र कर तृणमूल आगे पढ़ें »

ऊपर