किडनी की समस्या से जूझ रही नंदिनी का जज्बा ऐसा कि अस्पताल से दे रही है माध्यमिक की परीक्षा

मुख्य बातें
बनना चाहती है शिक्षिका
टीटागढ़ पौर माध्यमिक बालिका विद्यालय की है छात्रा
17 दिनों से है अस्पताल में
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : किडनी की समस्या से जूझ रही टीटागढ़ पौर माध्यमिक बालिका विद्यालय की छात्रा नन्दिनी अन्य युवाओं के लिए एक उदाहरण है जो कि छोटी-छोटी समस्याओं पर हार मान लेते हैं। पिछले 17 दिनों से अस्पताल में भर्ती नन्दिनी कुमारी राजभर (16) चिकित्सा के दौरान भी परीक्षा दे रही है। टीटागढ़ के लक्ष्मीघाट के आरएनटी बोस रोड की रहने वाली इस छात्रा का कहना है कि आगे जाकर वह शिक्षिका बनना चाहती है और उन बच्चों को शि​क्षित करना चाहती है जाे कि गरीबी के कारण पढ़ाई से कोसों दूर हैं। गुरुवार को हिन्दी की परीक्षा देकर आज अंग्रेजी के पेपर की तैयारी में वह जुटी हुई है। उसका कहना है कि उसे जल्द से जल्द घर जाना है लेकिन जब तक वह ठीक नहीं होती डॉक्टर उसे घर नहीं जाने देंगे। ऐसे में उसके लिए अस्पताल से परीक्षा दे पाना बेहद खुशी भरा अनुभव है। उसके पिता राजेन्द्र राजभर (42) ने कहा कि उसकी इच्छा थी कि वह परीक्षा दे और यहां सब व्यवस्था हो गयी। वे मूल रूप से बनारस के रहने वाले हैं। यहां स्थानीय पता इनका टीटागढ़ है। यह उनके लिए बहुत बड़ी बात है। उसका डायलिसिस चल रहा है। यह अपने आप में चिकित्सा के दृष्टिकोण से बड़ी बात है। उसकी ​चिकित्सा डॉक्टर हृदय रंजन दास कर रहे हैं।
टीटागढ़ पालिका के चेयरमैन ने यह कहा
इधर टीटागढ़ पालिका के चेयरमैन कमलेश साव ने कहा कि हमें नन्दिनी के बारे में पता चला है। उसे कोई भी जरूरत हो, इसके लिए हम उसे मदद करने के लिए हमेशा तैयार हैं। छात्रा काफी बहादुर है। इस बीमारी से जूझने के बावजूद वह हार नहीं मानी और परीक्षा दे रही है।
स्कूल प्रबंधन ने यह कहा
टीटागढ़ पौर माध्यमिक बालिका विद्यालय का सेंटर टीटागढ़ एंग्लो वर्नाकुलर हाई स्कूल में पड़ा है। इस बारे में एंग्लो वर्नाकुलर के प्रिंसिपल नीरज सिंह ने कहा कि इस संबंध में जब उन्हें पता चला कि एक बच्ची अस्पताल में भर्ती है और वह परीक्षा देना चाहती है तो हमने इसके संबंध में डब्ल्यूबीबीएसई के डिप्टी सेक्रेटरी मौसमी भद्रा को इस बारे में बताया। इसके बाद उन्होंने उक्त छात्रा से संबंधित दस्तावेज लाने को कहा। सब कुछ बोर्ड में जमा कराने के बाद उक्त छात्रा को अस्पताल से परीक्षा देने की अनुमति मिल गयी।
अस्पताल प्रबंधन ने यह कहा
चारनॉक हॉस्पिटल की सीईओ इप्शिता कुंडू ने बताया कि नन्दिनी कुमारी राजभर को परीक्षा देने में कोई दिक्कत न हो, इसके लिए हॉस्पिटल की ओर से पूरा ध्यान रखा जा रहा है। उसे सिंगल केबिन में शिफ्ट किया गया है। वह 8 फरवरी को भर्ती हुई थी। उसे किडनी से संबंधित समस्या है। उसका डायलिसिस चल रहा है। ऐसे में उसे परीक्षा से पहले लंच देना हो या जो भी जरूरी चीजें चाहिए, मुहैया करायी जा रही है। यही नहीं अन्य मरीज भी कोऑपरेट कर रहे हैं। उन्हें जब पता चला कि नन्दिनी यहां एक्जाम दे रही है तो इन लोगों ने परीक्षा के दौरान टीवी ऑफ रखने का निर्णय लिया ताकि उसे कोई दिक्कत न हो। नन्दिनी को यहां घर जैसी सुविधा मिले, हम यही कोशिश कर रहे हैं।

Visited 179 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

Budhwar ke Upay: बुधवार के दिन करें ये 5 उपाय, करियर व कारोबार के लिए …

कोलकाताः बुधवार का दिन प्रथम पूजनीय भगवान गणेश और लाल किताब के अनुसार मां दुर्गा को समर्पित है लेकिन इसके देवता बुध है। बुध ग्रह आगे पढ़ें »

IPL 2024 को लेकर सामने आई बड़ी जानकारी, इस तारीख से खेला जाएगा

नई दिल्ली: भारत समेत दुनियाभर के क्रिकेट प्रेमियों के लिए बड़ी खुशखबरी है। IPL 2024 को लेकर बड़ी खबर सामने आ रही है। IPL के आगे पढ़ें »

ऊपर