मुख्यमंत्री ही तय करेंगी कौन से घाट पर होगी सरकार की ओर से गंगा आरती

फिरहाद ने घाटों का लिया जाय​जा, कई नामों की सूची लगभग तय
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : काशी की तरह यहां भी भव्य गंगा आरती चाहती हैं सीएम ममता बनर्जी। सीएम की इस घोषणा के बाद से ही केएमसी व प्रशासन की तत्परता बढ़ गयी है। कई घाटों के नामों का सुझाव भी आये हैं, हालां​कि कौन से घाट पर सरकार की ओर से गंगा आरती होगी, यह स्वयं मुख्यमंत्री ही तय करेंगी। सूत्रों के हवाले से खबर मिली है। इसी क्रम में शहरी विकास तथा नगरपालिका मामलों के मंत्री एवं कोलकाता नगर निगम के मेयर फिरहाद हकीम ने यहां कई घाटों का जायजा लिया है। घाटों के नामों की सूची भी लगभग तैयार है।
कई घाटों की लिस्ट तैयार कर रहा है निगम
प्राथमिक रूप में प्रिंसेप घाट से जजेस घाट इलाके तक फिरहाद हकीम ने दौरा किया। उसके बाद कोलकाता नगर निगम ने शुरुआत में गंगा आरती के लिए कई घाटों को अंतिम रूप देने का फैसला किया है। सूत्रों के मुताबिक इस तालिका में हैं कदमतला घाट, निमतला घाट एवं अहिरीटोला घाट। साथ ही मिलेनियम पार्क का घाट भी अधिकारियों की पसंद है। अर्मेनियम घाट से फेरली प्लेस तक मिलेनियम पार्क के किनारे एक लंबा ‘वॉकिंग कॉरिडोर’ है। ऐसे में प्रशासनिक अधिकारियों का मानना ​​है कि गंगा आरती के लिए पर्याप्त जगह है। कोन्ननगर तक गंगा घाटों का जायजा लिया गया है।
अंतिम फैसला लेंगी सीएम
सूत्रों के मुताबिक अंतिम फैसला मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ही लेंगी, क्योंकि न केवल गंगा आरती बल्कि सीएम पहले ही कई बातों का उल्लेख किया है जो आरती के साथ ही जरूरी है। जैसे आसपास मंदिर हाे। लोगाें को आकर शांति सुकुन की अनुभूति हो। लोगों की सुविधाओं का विशेष ध्यान देना इत्यादि इनमें शामिल है।
निगम के मासिक अधिवेशन में प्रस्ताव
गंगा आरती को लेकर अगले माह दिसंबर के निगम के मासिक अधिवेशन में प्रस्ताव लाने की प्रबल संभावना है। इससे पहले मेयर परिषद की बैठक में इस मामले पर चर्चा होनी है। सूत्रों के मुताबिक इसके लिए पोर्ट प्रबंधन के अधिकारियों के साथ भी बैठक होने की संभावना है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अब दूसरे मामले में नौशाद सिद्दीकी को 6 दिनों की पुलिस हिरासत

पंचायत चुनाव तक मुझे जेल में रखना चाहती है तृणमूल - नौशाद सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : भांगड़ से आईएसएफ विधायक नौशाद सिद्दीकी को शुक्रवार को 6 दिनों आगे पढ़ें »

शुभेंदु के बाद दिलीप और मिठुन ने भी कहा, ‘अल्पसंख्यक विरोधी नहीं है भाजपा’

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : राज्य में पंचायत चुनाव होने वाले हैं और अगले साल लोकसभा चुनाव भी है। ऐसे में भाजपा अभी से खुद को आगे पढ़ें »

ऊपर