बमबारी में युवक की मौत पर भड़का लोगों का गुस्सा

Bomb Blast

अभियुक्तों की गिरफ्तारी की मांग पर किया जगदल थाने का घेराव
पुलिस प्रशासन हाय-हाय के लगाये नारे
जगदल : जगदल थाना अंतर्गत भाटपाड़ा पालिका के 17 नंबर वार्ड इलाके में चुनाव के एक दिन पहले ही बमबारी की घटना को अंजाम दिया गया था और चुनाव के बाद भी यहां आये दिन बमबारी की घटनाएं सामने आ रही थीं। इस बीच रविवार की देर रात हुई बमबारी में एक युवक अनुराग साव की मौत को लेकर यहां माहौल काफी गरमा गया। इलाके की साधारण जनता में पुलिस प्रशासन की भूमिका को लेकर काफी रोष देखा गया। मृतक के परिजनों व इलाके के लोगों ने जगदल थाने का घेराव कर प्रदर्शन किया। उन्होंने पुलिस प्रशासन के विरुद्ध हाय-हाय का नारा लगाते हुए इलाके में अशांति फैलाने वाले व अनुराग की हत्या के पीछे जिम्मेदार अभियुक्तों को अविलंब गिरफ्तार करने की मांग की। लोगों का आरोप है कि चुनाव को लेकर इस अंचल में पिछले 2 सालों से लोग आतंक में जी रहे हैं। बम व अवैध हथियारों पर कोई नियंत्रण पुलिस नहीं लगा पायी है, यही कारण है कि यहां साधारण लोगों की इस तरह से जान जा रही है। राजनीतिक द्वंद्व की बलि आम लोग चढ़ रहे हैं और पुलिस प्रशासन यहां मूकदर्शक बना हुआ है। लोगों के इस आक्रोश को देखते हुए बाद में पुलिस ने उन्हें समझाया और कड़ी कार्रवाई का आश्वासन दिया जिसके बाद विक्षोभ समाप्त हुआ। घटना की निंदा करते हुए अंचल के भाजपा नेता व भाजपा के राज्य कमेटी के सदस्य उमाशंकर सिंह ने कहा कि तृणमूल ने चुनाव के दौरान हिंसा फैलाने के लिए बाहरियों को यहां शरण दी और जब चुनाव के दिन वे कुछ नहीं कर पाये तो अब चुनाव के बाद अपनी खुन्नस इस तरह से निकाल रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस को अविलंब कार्रवाई कर उन्हें गिरफ्तार करना होगा। दूसरी ओर तृणमूल की ओर से एक छात्र की इस तरह से हुई मौत को दुःखजनक बताया गया। तृणमूल का आरोप है कि बमबारी करने वाले तृणमूल के नहीं बल्कि भाजपा के गुंडे हैं जो कि यहां तनाव व खौफ कायम रखना चाहते हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

आज भाजपा का प्रतिनिधि दल जायेगा मालबाजार

कोलकाता : आज यानी शुक्रवार को मालबाजार हादसे के बाद घटनास्थल पर भाजपा का प्रतिनिधि दल जायेगा। इस प्रतिनिधि दल में विधायक दीपक बर्मन के आगे पढ़ें »

सोई हुई किस्मत को भी चमका देता है ‘केसर का टोटका’, पति-पत्नी का भी संबंध रहता मजबूत

कोलकाता : इंसान के कर्म कई बार ऐसे होते हैं जिसके उसकी किस्मत भी साथ देना छोड़ देती है। इस कारण से मन मुताबिक फल आगे पढ़ें »

ऊपर