सीरिया में आईएसआईएस नेताओं के साथ संपर्क में थे आतंकी

आईएस के लिए फंड इकट्ठा करने का काम करता था कुरैशी
सद्दाम व सईद ने एके 47 के लिए हावड़ा के रहनेवाले व्यक्ति से भी की थी पूछताछ
पीसी में लेकर एसटीएफ करेगी और भी खुलासे
हावड़ा : कुछ दिनों पहले मोहम्मद सद्दाम और मोहम्मद सईद को पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने आतंकियों से जुड़ने के आरोप में गिरफ्तार किया था। उनसे पूछताछ में एक और आरोपी का नाम सामने आया। गत मंगलवार की शाम को पुलिस ने मध्यप्रदेश निवासी अब्दुल रकीब कुरैशी को गिरफ्तार किया था। बुधवार को उसे बैंकशाल कोर्ट में पेश किया गया। न्यायाधीश ने उन्हें 23 जनवरी तक पुलिस हिरासत में रहने का आदेश दिया। सरकारी वकील ने अदालत को बताया कि कुरैशी का नाम सद्दाम से पूछताछ करके हासिल किया गया था। उन्होंने दावा किया कि जांच में पता चला है कि सद्दाम की तरह कुरैशी भी उग्रवादी विचारधारा के प्रचार के लिए काम कर रहा था। वह कथित तौर पर इस्लामिक स्टेट (आईएस) की विचारधारा को युवाओं में फैलाने की कोशिश में भी शामिल था ताकि संगठन को गुप्त रूप से फैलाया जा सके। कुरैशी ने उस उग्रवादी मॉड्यूल को तकनीकी सहायता प्रदान की जिसे सद्दाम व सईद ने बनाया था।
सद्दाम और कुरैशी कैसे मिले ? : मध्य प्रदेश के खंडवा से गिरफ्तार कुरैशी से कैसे कनेक्शन हुआ? अब्दुल रकीब कुरैशी लंबे समय से सिमी नामक उग्रवादी संगठन से जुड़ा हुआ है, और आईएसआईएस से भी जुड़ा हुआ था। पता चला है कि सद्दाम के फोन-लैपटॉप से ​​गुप्त चैट मिली हैं जिसमें वे किसी सांकेतिक भाषा का इस्तेमाल कर बातचीत करते थे। यानी इसे फैलाने वाले मॉड्यूल्स का नेटवर्क पूरी तरह सीक्रेट चैट ऐप के जरिए था। सीक्रेट चैट ऐप में वे सभी सांकेतिक भाषा बोलते थे, इस अब्दुल रकीब कुरैशी का नाम मिला। और फिर उन्हें मध्य प्रदेश पुलिस की मदद से गिरफ्तार कर लिया गया। अब कोलकाता पुलिस एसटीएफ जानना चाहती है कि उनका हैंडलर कौन है या मुखिया कौन है, जाल कितनी दूर तक फैला हुआ है, और कौन शामिल है?
सीरिया के नेताओं से थे सम्पर्क : सद्दाम का सीरिया में आईएसआईएस नेताओं के साथ संपर्क था, जांचकर्ताओं को टेलीग्राम डेटा से संदेह है। वह सिंगापुर की एक महिला के संपर्क में था। कौन है वह महिला, वह महिला भी आईएसआईएस की सदस्य है सद्दाम ने आईएसआईएस आतंकवादियों द्वारा लक्षित दो दिल्लीवासियों को निशाना बनाया। सईद और सद्दाम के जो टेलीग्राम चैट मिले हैं वह दिल्ली, तेलांगाना, हैदराबाद दिल्ली के है। इन राज्यों में भी सम्पर्क में था। यह भी जानकारी मिली है कि वे कई राज्यों से सम्पर्क में था। सूत्रों के मुताबिक, सद्दाम के पास से मिली डायरी में जो कुछ लिखा हुआ है वह अरबी भाषा में है। एक जगह सद्दाम ने लिखा कि वह आईएसआईएस के प्रति अपनी वफादारी बनाए रखेगा। इस डायरी से किसी और के आतंकी संगठन में शामिल होने के संकेत मिले हैं।
एके 47 के लिए सम्पर्क में था सद्दाम : सद्दाम एके 47 खरीदने के लिए हावड़ा के किसी व्यक्ति से सम्पर्क कर रहे थे। वह व्यक्ति कौन है, पुलिस उसकी तलाश में जुट गयी है। वहीं कुरैशी जो विदेश जैसे सीरिया, साउदी और अरब के आईएस नेताओं के साथ सम्पर्क में थे। ताकि वह आईएस के लिए फंड इकट्ठा कर सके।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अचला सप्तमी के दिन करें ये उपाय, सूर्य देव की कृपा से मान-सम्मान और धन में होगी वृद्धि

कोलकाताः इस साल 28 जनवरी 2023 को अचला सप्तमी मनाई जा रही है। हिंदू पंचांग के अनुसार हर साल माघ माह में शुक्ल पक्ष की आगे पढ़ें »

हाते खोड़ी कार्यक्रम के बाद ही दिल्ली पहुंचे राज्यपाल

परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम में वर्चुअल रूप से हुए शामिल, पीएम मोदी को सराहा सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता/नई दिल्ली : राज्यपाल डॉ. सी.वी. आनंदा बोस गुरुवार को हाते आगे पढ़ें »

ऊपर