पार्थ के खिलाफ दाखिल चार्जशीट का तकनीकी रोड़ा

अभी इंतजार है राज्य सरकार की अनुमति का
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : टीचर नियुक्ति घोटाले में सीबीआई की तरफ से पहली चार्जशीट अलीपुर के सीबीआई कोर्ट में दाखिल की गई है। पर इसमें एक तकनीकी रोड़ा फंसा हुआ है। वह है कि प्रिवेंशन ऑफ करप्शन एक्ट के तहत अगर सरकार में शामिल किसी व्यक्ति के खिलाफ चार्जशीट दाखिल करनी हो तो सरकार से अनुमति लेनी पड़ती है।
इस चार्जशीट में 16 अभियुक्तों के नाम दिए गए हैं। इसमें पार्थ चटर्जी सहित छह नाम ऐसे भी हैं जो गिरफ्तारी के समय सरकारी मशीनरी के अंग थे। प्रिवेंशन ऑफ करप्शन एक्ट की धारा 19 के तहत सरकार में शामिल व्यक्ति के खिलाफ मुकदमा दायर करने के लिए राज्य सरकार से अनुमति लेनी पड़ती है। सूत्रों के मुताबिक राज्य सरकार से इस बाबत करीब पंद्रह दिनों पहले अनुमति मांगी गई थी। इस बाबत बार-बार रिमाइंडर देने के बावजूद सरकार का जवाब नहीं मिला है। पार्थ और अन्य की जेल हिरासत 31 अक्टूबर तक है और सूत्रों के मुताबिक सीबीआई के एडवोकेट मामले की सुनवायी के दौरान इस सवाल को उठाएंगे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

साल्टलेक में फेक कॉल सेंटर का भंडाफोड़, 4 गिरफ्तार

विधाननगर : साल्टलेक और न्यूटाउन में कुकुरमुत्ते की तरह फर्जी कॉल सेंटर का व्यवसाय फैल गया है। आये दिन पुलिस की ओर से अभियान चलाकर आगे पढ़ें »

टेट 2014 : 824 की अवैध नियुक्ति, हाई कोर्ट में रिट

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : हाई कोर्ट में दायर एक रिट में आरोप लगाया गया है कि 2014 के टेट में अवैध नियुक्तियां दी गई हैं। इसकी आगे पढ़ें »

ऊपर