एसएससी मामला : मानिक सहित कई बने करोड़पति, ईडी दे सकती है जल्द चार्जशीट

मानिक और अन्य अभियुक्तों के खिलाफ विस्फोटक खुलासे कर सकता है ईडी
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : एसएससी मामले से कइयों को लाभ पहुंचा है। ईडी की टीम की पूछताछ में कइयों ने यह खुलासा भी किया है। जल्द ही इसकी जानकारी ईडी अधिकारी कोर्ट में दे सकते हैं। उल्लेखनीय है कि मानिक के पास लगभग 30 करोड़ रुपये इस स्कैम से कमाने का सीधा आरोप लगा है। हाल ही में ईडी की टीम ने मानिक भट्टाचार्य के करीबी तापस मंडल से पूछताछ की थी। इनमें ईडी अधिकारियों से उसने कहा था कि छात्रों से हजारों रुपये लेकर इन अभियुक्तों ने करोड़ों की संपत्ति बनायी है। इनमें मानिक के अलावा पार्षद के कई पूर्व अधिकारी शामिल है। उल्लेखनीय है कि एसएससी मामले में कई पूर्व अधिकारी फिलहाल जेल हिरासत में हैं। आरोप है कि रजिस्ट्रेशन फीस केवल 300 रुपये थी लेकिन 5 हजार रुपये प्रति छात्र से वसूले गये थे। इन सभी छात्रों से कुल 20 करोड़ 74 लाख रुपये की वसूली हुई थी, जो सीधे मानिक भट्टाचार्य के पास गया। तापस ने कहा कि इस पैसे का लेनदेन उनके महिषबथान कार्यालय में किया गया था। आरोप है कि भ्रष्टाचार का पैसा मानिक के बेटे की दो कंपनियों में गया है। प्राथमिक शिक्षा बोर्ड के अपदस्थ पूर्व अध्यक्ष मानिक भट्टाचार्य फिलहाल जेल में हैं। सूत्रों के मुताबिक ईडी ने प्राथमिक शिक्षा बोर्ड के अपदस्थ अध्यक्ष माणिक के खिलाफ चार्जशीट दाखिल करने की तैयारी शुरू कर दी है। ईडी भर्ती भ्रष्टाचार मामले में दूसरी चार्जशीट पेश करने जा रहा है।
इस सप्ताह दाखिल हो सकती है दूसरी चार्जशीट
इस सप्ताह के अंत तक ईडी की टीम एक और चार्जशीट पेश कर सकती है। मानिक भट्टाचार्य का नाम इस चार्जशीट में अभियुक्तों की सूची में होगा। पहली चार्जशीट में अभियुक्तों की सूची में पार्थ चटर्जी और अर्पिता मुखर्जी का नाम था। पहली चार्जशीट में मानिक का नाम अभियुक्तों की सूची में नहीं किया गया था लेकिन उनके नाम का उल्लेख किया गया था। पहली चार्जशीट के बाद मानिक को ईडी ने गिरफ्तार किया। सूत्रों का दावा है कि भर्ती भ्रष्टाचार में मानिक के खिलाफ चार्जशीट में कई विस्फोटक तथ्य हो सकते हैं।
पहली चार्जशीट में पार्थ और उनके बीच के चैट का हुआ था जिक्र
पहली चार्जशीट में पूर्व शिक्षा मंत्री पार्थ और प्राथमिक शिक्षा बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष मानिक के बीच मोबाइल संदेशों के आदान-प्रदान के सबूतों का उल्लेख किया गया था। इसमें ईडी की टीम को यह संदेश मिला था कि दादा, मानिक जो सो रुपये ले रहे हैं…। फोन पर संदेश किसने भेजा। इस पर ईडी का कहना था कि पार्थ को भेजे गए संदेश में एक व्यक्ति ने शिकायत की थी। आरोप है कि मानिक उम्मीदवारों को सिर्फ हस्ताक्षर के साथ उत्तर पुस्तिका की शीट जमा करने का निर्देश देते थे। इसके अलावा एक मैसेज में यह भी लिखा था कि वह कोई इंटरव्यू नंबर लिखने से भी मना कर रहा है। ईडी ने चार्जशीट में मानिक और पार्थ के बारे में कहा है कि दोनों इस मामले में एक दूसरे के साथ मिलकर काम कर करते थे।
नये नामों का भी हो सकता है खुलासा
चार्जशीट में भी इसका जिक्र है। ईडी को अब तक मानिक के खिलाफ 30 करोड़ रुपए से ज्यादा के भ्रष्टाचार के सबूत मिले हैं। जांच एजेंसी के सूत्रों से पता चला है कि इस भर्ती भ्रष्टाचार का पैसा उनके बेटे की दो कंपनियों में गया है। इन सारी जानकारियों का जिक्र अगली चार्जशीट में हो सकता है। सूत्रों का दावा है कि मानिक ने इस भ्रष्टाचार के पैसे को कहां डायवर्ट किया इस बात का जिक्र हो सकता है। चार्जशीट में नए सबूत और कई नए नाम शामिल हो सकते हैं जो जांच में सामने आए हैं। ईडी इस नए नाम का जिक्र कर जांच को तेज करना चाहता है। सूत्रों ने यह भी कहा कि कोर्ट में अर्जी दी जाएगी। उल्लेखनीय है कि बीएड कॉले​ज व अन्य ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट के प्रबंधन से इनके पास रुपये पहुंचाए जाते थे। इस मामले में भी ईडी की टीम नये खुलासे कर सकती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अब दूसरे मामले में नौशाद सिद्दीकी को 6 दिनों की पुलिस हिरासत

पंचायत चुनाव तक मुझे जेल में रखना चाहती है तृणमूल - नौशाद सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : भांगड़ से आईएसएफ विधायक नौशाद सिद्दीकी को शुक्रवार को 6 दिनों आगे पढ़ें »

शुभेंदु के बाद दिलीप और मिठुन ने भी कहा, ‘अल्पसंख्यक विरोधी नहीं है भाजपा’

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : राज्य में पंचायत चुनाव होने वाले हैं और अगले साल लोकसभा चुनाव भी है। ऐसे में भाजपा अभी से खुद को आगे पढ़ें »

ऊपर