एसएससी मामला : पार्थ चटर्जी सहित 7 अभियुक्तों को फिर जेल हिरासत

पार्थ ने न्यायाधीश से बेल के लिए की ​विनती, कहा – मैं बीमार हूं, जीना चाहता हूं
अर्पिता, एसपी सिन्हा, कल्याणमय, सुबिरेश की भी हुई पेशी
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : एसएससी मामले में पूर्व मंत्री पार्थ चटर्जी सहित 7 अभियुक्तों को जेल हिरासत में भेजा गया। सोमवार को अलीपुर कोर्ट में इनकी सशरीर पेशी हुई। इस दौरान सीबीआई कोर्ट ने इन्हें 14 नवंबर तक के लिए जेल हिरासत में भेज दिया। अलीपुर कोर्ट ने फिर एक बार पार्थ के अलावा उनकी सहयोगी अर्पिता मुखर्जी, राज्य प्राथमिक शिक्षा बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष व विधायक मानिक भट्टाचार्य, वेस्ट बंगाल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन के पूर्व अध्यक्ष कल्याणमय गांगुली, नार्थ बंगाल यूनिवर्सिटी के पूर्व वीसी व एसएससी के पूर्व चेयरमैन सुबिरेश भट्टाचार्य, एसएससी के पूर्व सलाहाकार शांति प्रसाद सिन्हा और पूर्व अध्यक्ष अशोक साहा की जमानत याचिका को खारिज कर उन्हें जेल हिरासत में भेज दिया है। इस दौरान पार्थ चटर्जी ने मीडिया कर्मियों से कहा कि मैं पार्टी के साथ हूं।
मुझे जीने दीजिए, कोर्ट से पार्थ की अपील
सुनवाई शुरू होते ही पार्थ ने न्यायाधीश से जमानत की विनती करते हुए कहा कि मेरा शरीर साथ नहीं दे रहा है। मैं जीना चाहता हूं। उन्होंने कहा कि वे 100 दिनों से हिरासत में हैं लेकिन उन्हें अभी तक मेरे खिलाफ कुछ नहीं मिला है। उनके वकील ने कोर्ट में कहा कि पार्थ चटर्जी की मेडिकल रिपोर्ट बताती है कि वे गंभीर रूप से बीमार हैं। एक नेता के तौर पर उन्होंने बहुत से लोगों का भला किया है। वे एक शिक्षित व्यक्ति हैं। कहीं भाग नहीं जाएंगे। कोर्ट से जमानत की याचिका दायर करते हुए पार्थ के वकील ने कहा था कि उनकी तबीयत ठीक नहीं रहती है। उनके मुवक्किल को फंसाया गया है।
सीबीआई ने दी जबरदस्त दलील
सीबीआई के वकील ने कहा कि पार्थ चटर्जी से अभी बहुत सी चीजें जाननी बाकी हैं इसलिए उन्हें अभी जमानत पर रिहा न किया जाए। यह काफी बड़ा स्कैम है, अगर अभियुक्तों को जमानत मिलती है तो वे मामले को प्रभावित करेंगे। दोनों पक्षों की बातें सुनने के बाद अदालत ने पार्थ की न्यायिक हिरासत दो हफ्ते के लिए बढ़ा दी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सोने से पहले कर लें ये 6 काम, इससे मां लक्ष्‍मी होती है प्रसन्‍न

कोलकाता: रात को सोने से पहले किए गए कुछ काम बहुत लाभ कराने के साथ-साथ अच्‍छी नींद भी लाते हैं। साथ भी किस्‍मत का भरपूर आगे पढ़ें »

बेकार पड़ी चीजों से महज 10 हजार रुपयों की लागत पर बना डाली कार

शांतिपुर के संजय की कार ने खींचा लोगों का ध्यान लॉकडाउन में भतीजे के लिए बनायी गयी कार से मिला आइडिया नदिया : बेकार पड़े सामान की आगे पढ़ें »

ऊपर