…तो इसलिये पश्चिम बंगाल में रात 2 बजे राज्यपाल ने बुलाया विधानसभा का सत्र!

कोलकाताः पश्चिम बंगाल में सिर्फ टाइपिंग की गलती के कारण विधानसभा का सेशन रात 2:00 बजे शुरू होगा।दरअसल पश्चिम बंगाल सरकार की ओर से राज्यपाल को विधानसभा सत्र शुरू करने के लिए जो प्रस्ताव भेजा गया था, उसमें 7 मार्च (सोमवार) 2 पीएम की जगह 2 एएम टाइप हो गया था। आज राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने दोपहर में राज्य के मुख्य सचिव को बातचीत करने के लिए बुलाया था, लेकिन आला अफसर राज्यपाल से मिलने नहीं पहुंचे। इसी के बाद राज्यपाल ने ट्वीट करके कहा कि उन्होंने कैबिनेट के प्रस्ताव को अनुमति दे दी है, लेकिन रात 2:00 बजे सत्र शुरू करने का प्रस्ताव उन्हें अस्वाभाविक लग रहा है।
इस पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए विधानसभा के स्पीकर बिमान बनर्जी ने कहा है कि यह एक टाइप की गलती थी। राज्यपाल इसे सुधार सकते थे, लेकिन जब उन्होंने रात 2:00 बजे टाइप की गलती को स्वीकृत किया है तो अब रात में ही विधानसभा का सेशन शुरू होगा।
स्पीकर ने कहा…
पश्चिम बंगाल विधानसभा के स्पीकर बिमान बनर्जी के मुताबिक, राज्य सरकार की ओर से पहले जो दो नोट भेजे गए थे, उनमें 2:00 पीएम लिखा हुआ था, बाद में गलती से 2:00 एएम चला गया, राज्यपाल इसे इग्नोर कर सकते थे।
बहरहाल, अगर पश्चिम बंगाल विधानसभा रात 2:00 बजे शुरू होती है तो देश में यह अपने तरह का अनोखा मामला होगा। राज्यपाल ने भी अपनी ट्वीट में इस तरह की बात लिखी है।
गुरुवार को राजभवन की ओर से कैबिनेट के प्रस्ताव को स्वीकृत करते हुए कहा गया कि पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने संविधान के अनुच्छेद 174  के तहत सोमवार यानी 7 मार्च को सुबह 2 बजे (2 एएम) राज्य विधानसभा का अधिवेशन बुलाया है।
सूबे की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से चल रही राज्यपाल की तनातनी के बीच राजभवन की ओर से इस तरह की असामान्य स्वीकृति मिलने पर बंगाल के राजनीतिक हलकों में खलबली मच गई है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

पार्थ के खिलाफ दाखिल चार्जशीट का तकनीकी रोड़ा

अभी इंतजार है राज्य सरकार की अनुमति का सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : टीचर नियुक्ति घोटाले में सीबीआई की तरफ से पहली चार्जशीट अलीपुर के सीबीआई कोर्ट में आगे पढ़ें »

सरकारी सुविधाएं लेते समय किया था मुफ्त इलाज का वादा

निजी अस्पतालों व नर्सिंग होमों के खिलाफ पीआईएल सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : सरकारी सुविधा लेते समय निजी अस्पतालों और नर्सिंग होमों ने एक निर्धारित संख्या में आम आगे पढ़ें »

ऊपर