…तो इसलिए एसएसकेएम में ब्लड टेस्ट नहीं कराना चाहती हैं सीएम

कोलकाता : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का एसएसकेएम अस्पताल में ब्लड टेस्ट को लेकर पिछला अनुभव बहुत सुखद नहीं रहा। गुरुवार को यहां एक कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि वे कई बार अस्पताल में भर्ती हुई हैं। इसका काफी उन्हें अनुभव है। उन्होंने कहा कि एक बार इंजेक्शन से उनका हाथ पूरा फूल गया था। पीजी में एक बार ही ब्लड टेस्ट कराया था। टेस्ट के लिए ब्लड तो डाॅक्टर नहीं लेते, नर्स लेती हैं, इतने जोर से खून निकाला गया कि पूरा हाथ काला पड़ गया। सीएम उस डर की वजह से यहां ब्लड टेस्ट कराने से बचना चाहती हैं। हालांकि सीएम ने एसएसकेएम के जूनियर डॉक्टरों, नर्सों और स्वास्थ्य कर्मियों के कामों को सर्टिफिकेट दिया। साथ ही सीनियर डॉक्टरों से नाइट ड्यूटी रोटेशन करने का अनुरोध किया। कुल मिलाकर मुख्यमंत्री ने एसएसकेएम के इलाज पर संतोष व्यक्त किया, लेकिन ट्रॉमा केयर सेंटर की कार्यप्रणाली पर असंतोष जताया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

विदेश जाना हुआ और महंगा, पर्यटन जगत के लोगों पर आयी मुसीबत

प्रस्तावित 20 फीसदी टीसीएस की दर को वापस लेने के लिए करेंगे अपील सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : केंद्रीयवित्त मंत्री की कई नयी घोषणाओं पर जहां लोगों ने आगे पढ़ें »

शुभेंदु ने पूछा, सरकार गिरने के बयान देने का क्या है आधार ?

एकलव्य स्कूल के लिए राज्य ने नहीं दी जमीन : शुभेंदु सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर करारा हमला बोलते आगे पढ़ें »

ऊपर