…ताकि दुर्घटना व सड़क पर बीमार पड़ने वाले व्यक्ति की बच सके जान

गोल्डेन ऑवर की अहमियत को लेकर पुलिस हुई तत्पर
ट्रैफिक पुलिस के कर्मियों को दी जा रही है बेसिक लाइफ सपोर्ट की ट्रेनिंग
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : महानगर में विभिन्न तरह के जागरूकता अभियान के बावजूद सड़क दुर्घटनाओं की संख्या में कमी नहीं आ रही है। कभी बाइक तो, कभी ऑटो ड्राइवर द्वारा नियंत्रण खोने से यात्री घातक दुर्घटना का शिकार हो जा रहे हैं। कई बार दुर्घटना में घायल व्यक्ति को अस्पताल ले जाने के दौरान उसकी मौत हो जाती है। कई बार एम्बुलेंस के इंतजार में काफी देर हो जाती है। ऐसे में इस तरह की परिस्थितियों से निपटने के लिए कोलकाता ट्रैफिक पुलिस की ओर से पहल की गयी है। सिर्फ दुर्घटना ही नहीं बल्क‌ि राहगीरों के बीमार पड़ने की संभावना भी रहती है। घटना के बाद एक तय समय के अंदर इलाज शुरू होने पर मरीज की जान बचने की संभावना अधिक रहती है। इस समय को ही गोल्डेन ऑवर कहा जाता है। उक्त समय बर्बाद न हो, इसके लिए पुलिस की तरफ से पहल की गयी है। ड्यूटी के दौरान अगर पुलिस कर्मियों की आंख के सामने अगर कोई बीमार पड़ता है तो उसे कैसे बचाया जाए, इसे लेकर पुलिस कर्मियों को ट्रेनिंग दी जा रही है। मंगलवार से कोलकाता ट्रैफिक पुलिस के कर्मियों को ट्रैफिक ट्रेनिंग स्कूल में बेसिक लाइफ सपोर्ट की ट्रेनिंग दी जा रही है। घटना के समय क्या करने से कोई स्वस्थ हो सकता है और उसकी जान बच सकती है, इसकी ट्रेनिंग दी जा रही है। मूलत: पल्स मापने के साथ सीपीआर देने की ट्रेन‌िंग दी गयी है। सीपीआर देने का मतलब बीमार या दुर्घटना के शिकार व्यक्ति के शरीर में सास के प्रवाह काे स्वाभाविक करना है।
क्या कहना है ज्वाइंट सीपी ट्रैफिक का
कोलकाता ट्रैफिक पुलिस के 25 ट्रैफिक गार्ड के करीब 3 हजार पुलिस कर्मियों को यह ट्रेनिंग दी जाएगी। कोलकाता पुलिस के ज्वाइंट सीपी ट्रैफिक संतोष पांडेय ने बताया कि गोल्डेन ऑवर के ऊपर लोगों का जीवन काफी निर्भर करता है। अगर एम्बुलेंस आने में देरी होती है तो यह प्रशिक्षण रहने पर पुलिस कर्मी किसी भी बीमार व्यक्ति का प्राथमिक इलाज चालू कर सकते हैं। प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले एक ट्रैफिक सार्जेंट ने बताया कि पद्धति के बारे में पता रहने पर कई लोगों की जान वे लोग बचा सकेंगे। यहां उल्लेखनीय है कि मंगलवार को ठाकुरपुकुर में तेज रफ्तार ट्रक की टक्कर से बाइक सवार महिला की मौत हो गयी थी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

स्वास्थ्य साथी के बावजूद अस्पताल ने वसूले रुपये, लगाया गया जुर्माना

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : स्वास्थ्य साथी कार्ड दिखाकर अस्पताल में भर्ती होने के बावजूद मरीज के परिजनों से नकद रुपये लिये जाने का आरोप न्यूटाउन के आगे पढ़ें »

प्रेमिका की हत्या कर शव को दफनाया

खड़गपुर : पश्चिम मिदनापुर जिले के खड़गपुर लोकल थाना इलाके के एक गांव में रहने वाली एक महिला को मार कर दफना दिए जाने के आगे पढ़ें »

ऊपर