अनुव्रत की बेटी सहित छह को फोकट में टीचर की नौकरी

जस्टिस गंगोपाध्याय ने दिया आज हाई कोर्ट में हाजिर होने का आदेश
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : हाई कोर्ट के जस्टिस अभिजीत गंगोपाध्याय ने बीरभूम जिला तृणमूल कांग्रेस के जिलाध्यक्ष अनुव्रत मंडल की बेटी सहित छह को वृहस्पतिवार कोर्ट में हाजिर होने का आदेश दिया है। आरोप है कि टेट में फेल होने के बावजूद उन्हें प्राइमरी में टीचर के पद पर नियुक्ति दे दी गई। उन्होंने बीरभूम जिले के एसपी को आदेश दिया है कि वे इन सभी छहों की कोर्ट में उपस्थिति सुनिश्चित करें। साथ ही चेतावनी दी है कि आदेश का अनुपालन नहीं किए जाने पर गंभीर परिणाम होगा।
एडवोकेट फिरदौश शमीम ने यह जानकारी देते हुए बताया कि प्राइमरी टीचरों की नियुक्ति को लेकर सुमन दास बनाम राज्य सरकार के बीच चल रहे मामले में दायर सप्लिमेंटरी एफिडेविट में यह खुलासा हुआ है। इस मामले की सुनवायी में जब अनुव्रत मंडल का नाम आया तो जस्टिस गंगोपाध्याय भी चौंक गए। उन्होंने एडवोकेट से सवाल करके इसकी पुष्टि भी की। इसके बाद ही जस्टिस गंगोपाध्याय ने एपिलेट साइड के रजिस्ट्रार को निर्देश दिया कि वे छह लोगों की उपस्थिति के बाबत फौरन एसपी को जानकारी दे दें। उन्होंने आदेश दिया है कि अनुव्रत मंडल की बेटी सुकन्या मंडल, भाई सुमित मंडल, भांजा सत्याकी मंडल, निजी सहायक अर्क दत्त और नजदीकी कस्तूरी चौधरी एवं सुजीत बागदी को टेट में फेल होने के बावजूद प्राइमरी में टीचर के पद पर नियुक्ति दे दी गई। अनुव्रत मंडल की बेटी सुकन्या मंडल को बीरभूम के ही कालिकापुर प्राइमरी स्कूल में टीचर की नौकरी दी गई है। अब अनुव्रत की बेटी होने का जलवा कुछ ऐसा था कि सुकन्या एक दिन भी स्कूल नहीं गई, अलबत्ता हाजिरी खाता उनके घर पर लाया जाता था और वे उस पर दस्तखत कर दिया करती थीं। इनमें तो कुछ ऐसे भी हैं जिन्होंने टेट में हिस्सा ही नहीं लिया था इसके बावजूद उन्हें नियुक्ति दे दी गई थी। जस्टिस गंगोपाध्याय ने आदेश‌ दिया है कि सभी छह अपने टेट सर्टिफिकेट और नियुक्ति पत्र के साथ वृहस्पतिवार को दोपहर तीन बजे कोर्ट में हाजिर रहें। इसके बाद मामले की सुनवायी होगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

दुर्गापूजा को यूनेस्को से मान्यता दिलाने में केंद्र सरकार की भूमिका : मीनाक्षी लेखी

राज्य छीन रहा है श्रेय सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : दुर्गापूजा को यूनेस्को से अमूर्त सांस्कृतिक विरासत का दर्जा मिलने के बाद पूरे राज्य में उत्साह का माहौल आगे पढ़ें »

डेंगू से सावधान रहने के लिए पूजा समितियां भी करें प्रचार

कोलकाता : कोलकाता नगर निगम के मेयर फिरहाद हकीम ने महानगर में डेंगू की स्थिति को चिंताजनक बताते हुए कहा कि कोलकाता नगर निगम और आगे पढ़ें »

ऊपर