अखिल गिरी के खिलाफ पीआईएल, सुनवायी आज

एक जनसभा में की थी राष्ट्रपति पर अशालीन टिप्पणी
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : राज्य सरकार के राज्य कारा मंत्री अखिल गिरी के खिलाफ हाई कोर्ट में एक जनहित याचिका (पीआईएल) दायर की गई है। उनके खिलाफ राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू पर अशालीन टिप्पणी करने का आरोप लगा है। चीफ जस्टिस प्रकाश श्रीवास्तव और जस्टिस राजर्षि भारद्वाज के डिविजन बेंच में मंगलवार को इसकी सुनवायी होनी है। भाजपा के लीगल सेल से जुड़ी एडवोकेट सुश्मिता साहा दत्त ने यह पीआईएल दायर की है।
अखिल गिरी ने नन्दीग्राम में 11 नवंबर को एक जनसभा को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति के खिलाफ उनकी शक्ल-सूरत का हवाला देते हुए अशालीन टिप्पणी की थी। इसके खिलाफ उसी दिन नन्दीग्राम थाने में एफआईआर दर्ज करायी गई थी। एडवोकेट दत्त ने कहा कि इस बाबत कोई कार्रवाई नहीं की जाने पर यह पीआईएल दायर की गई है। इस पीआईएल में सवाल उठाया गया है कि क्या मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और विधानसभा के अध्यक्ष ने गिरी के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर के अपनी संवैधानिक जिम्मेदारी को निभाया है। क्या अखिल गिरी के आपराधिक मामला दर्ज नहीं कर के उन्होंने अपनी जिम्मेदारी निभायी है। इस पीआईएल में कहा गया है राष्ट्रपति देश के संवैधानिक प्रमुख होते हैं और उनका अपमान पूरे देश का अपमान होता है। इसी वजह से गिरी के खिलाफ पूरे देश में एफआईआर दर्ज करायी गई हैं। चीफ जस्टिस के बेंच के समक्ष सोमवार को इसे मेंशन करते हुए पीआईएल दायर करने की अनुमति मांगी तो बेंच ने मंजूरी दे दी। इसके बाद यह पीआईएल दायर की गई।

शेयर करें

मुख्य समाचार

दोस्त ने घर आने से किया मना तो भरे बाजार उसकी पत्नी के काटे अंग-अंग

भागलपुर : भागलपुर के पीरपैंती में वीभत्स हत्या को अंजाम दिया गया। दोस्त ने घर पर आने से रोक लगा दी तो उसकी पत्नी पर आगे पढ़ें »

वोटिंग के दिन रोड शो की अनुमति नहीं : ममता

कोलकाता : पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने गुजरात में चल रही दूसरे फेज की वोटिंग को लेकर पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए आगे पढ़ें »

ऊपर