पार्थ ने नहीं की जमानत की अपील, सुबिरेश के साथ शांतिप्रसाद फिर भेजे गये जेल

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : बुधवार को विजया दशमी की दोपहर एसएससी मामले में गिरफ्तार पार्थ चटर्जी की सुनवाई विशेष अदालत में हुई। सुनवाई में आगामी 19 अक्टूबर तक पार्थ चटर्जी को जेल हिरासत में भेजने का निर्देश दिया गया। पार्थ के साथ एसएससी मामले में अभियुक्त शांतिप्रसाद सिन्हा, कल्याणमय गांगुली, सुबीरेश भट्टाचार्य व अशोक कुमार साहा की सुनवाई भी बुधवार को हुई। प्रत्येक को 14 दिनों की जेल हिरासत में भेजने का निर्देश दिया गया। इन चारों ने अदालत में जमानत के लिए आवेदन किया था, लेकिन पार्थ चटर्जी ने इस बार जमानत की अपील ही नहीं की। गत 23 जुलाई को गिरफ्तार होने के बाद से जितनी बार पूर्व मंत्री को अदालत में लाया गया, उतनी बार पार्थ चटर्जी ने वि​भिन्न कारणों से जमानत की अपील की थी। पहले की कई सुनवाई में उन्हें भावुक होते हुए भी देखा गया था। शारिरिक अस्वस्थता की बात बताते हुए जेल से रिहाई की अपील भी उन्होंने की थी। अदालत द्वारा बार-बार उन्हें बैरंग लौटाये जाने पर भी उन्होंने हार नहीं मानी थी बल्कि यह भी समझाना चाहा था कि अगर वह बाहर निकलते हैं तो भी इस मामले में सबूत मिटाने की क्षमता उनके पास नहीं है। पहले ईडी हिरासत, फिर जेल हिरासत से अब पार्थ सीबीआई की हिरासत में थे। बुधवार को उनके मामले की सुनवाई थी, लेकिन अदालत में वर्चुअली पेश होने पर भी पार्थ ने जमानत की अपील नहीं की। इधर, शांतिप्रसाद, सुबीरेश, कल्याणमय व अशोक ने जमानत की अपील की थी, लेकिन अदालत ने उनकी याचिका खारिज कर दी। वहीं उत्तर बंग विश्वविद्यालय के पूर्व वीसी सुबीरेश को डिविजन वन कैदी के तौर पर देखने की अर्जी भी खा​रिज कर दी गयी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

शोभनदेव ने शुभेंदु को किया फोन, पूछा कब चलना है दिल्ली

कोलकाता : राज्य के मंत्री शोभनदेव चट्टोपाध्याय ने भाजपा के नेता शुभेंदु अधिकारी काे किया फोन, पूछा कब चलना है दिल्ली। इस पर शुभेंदु अधिकारी आगे पढ़ें »

कलकत्ता मेडिकल कॉलेज में छात्र परिषद चुनाव को लेकर प्रदर्शन, हाई कोर्ट में पहुंचा मामला

कोलकाता : कलकत्ता मेडिकल कॉलेज में छात्र परिषद चुनाव की मांग को लेकर हंगामा मचा हुआ है। छात्रों ने सोमवार शाम से ही प्राचार्यों और विभागाध्यक्षों का आगे पढ़ें »

ऊपर