एक बार फिर कोलकाता की मेट्रो में दौड़ेंगे चीन के डालियान रैक

मेट्रो जीएम की मौजूदगी में दमदम स्टेशन से शुरू हुआ कॉमर्शियल रन
एक बार में बैठ सकेंगे 408 यात्री, ह्वील चेयर चढ़ाने की होगी सुविधा
कोलकाता : अब एक बार फिर कोलकाता की मेट्रो में चीन के डालियान रैक दौड़ेंगे। इसकी कॉमर्शियल शुरुआत शुक्रवार को दमदम स्टेशन से लेकर पार्क स्ट्रीट स्टेशन तक की गयी। इसमें खुद मेट्रो के जीएम अरुण अरोड़ा, सीपीआरओ कौशिक मित्रा समेत अन्य अधिकारी मौजूद थे। उन लोगों ने एमआर 501 रेक में दमदम से पार्क स्ट्रीट तक का सफर तय किया। गत 2019 के बाद नए रैक के आने के बाद रिसर्च, डिजाइन एंड स्टैंडर्ड ऑर्गनाइजेशन (आरडीएसओ) के निर्देशों का पालन करते हुए कई तरह के टेस्ट करने पड़े। मेट्रो के अधिकारी के अनुसार सभी जांच परिणामों की जांच करने के बाद इसका कॉमर्शियल रन शुरू किया गया है। डालियान कंपनी द्वारा बनाए गए प्रोटोटाइप रैक को लाया गया है, जो कि 90 किलोमीटर की रफ्तार से दौड़ेंगे। इसका मुख्य कारण है कि पिछले साल और इस साल कई मेट्रो परियोजनाओं के उद्घाटन किये गये हैं और कइयों के उद्घाटन किये जायेंगे। इसमें नोआपाड़ा-एयरपोर्ट, न्यू गरिया-रूबी, जोका-तारातल्ला मेट्रो आदि शामिल हैं। नतीजतन, बहुत सारे रैक की आवश्यकता है। इसी को ध्यान में रखते हुए मेट्रो में गतिविधियां शुरू हो गई हैं।
ये हैं विशेषताएं : इन डालियान रैकों में यात्री सुविधा के साथ कई अत्याधुनिक विशेषताएं हैं जो कि निम्नलिखित हैं—
*वाइड डोर – जो कि मौजूद रैक से 100 एमएम चौड़ा होगा
*बेहतर राइडिंग – रैक को 90 किमी. प्रति घंटे की गति पर 2.5 के राइडिंग इंडेक्स के लिए पास किया जाता है, इससे कम जर्किंग होगा
*वाइड एंगल सीसीटीवी कैमरा- 360 डिग्री कवरेज
*कवर प्लेट के साथ मॉड्यूलर और व्यापक वेस्टिब्यूल डिजाइन
*8.5% अधिक बैठने की क्षमता – प्रति यात्री कुल 408 सीटें
*वरिष्ठ नागरिकों और विशेष रूप से सक्षम लोगों के लिए 36% अधिक सीटें
*खूबसूरती से डिजाइन किया गया इंटीरियर और बहुरंगी स्टिकर
*पेंट फ्री स्टेनलेस स्टील कार बॉडी
*13% अधिक क्षमता वाली एयर कंडीशनर मशीन जो गर्मी से बचायेगी
*कवर और बाहर के साथ छोटे आपातकालीन अलार्म डिवाइस संकेत- इससे कोच को बाहर से पहचानने में आसानी होती है जहां से इमरजेंसी कॉल आयेगी
*वर्षा का पानी चैनल के माध्यम से निकाला जायेगा
*ह्वील चेयर पार्किंग की सुविधा – यह सुविधा पहली बार दी गई है। इस रैक से ब्लू लाइन में अब ह्वील चेयर वाले यात्री मेट्रो में चढ़ सकते हैं
*साइड स्टॉपर और बैफल के साथ बेहतर डोर चैनल कवर
*एंटी-स्किड रैंप के साथ चौड़ा फ्रंट इवैक्यूएशन डोर
*साइड हैंड्रिल – खड़े यात्रियों के आराम के लिए

Visited 173 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

आईएसपीएल को लेकर उत्साहित हैं बॉलीवुड सितारे, सैफ-अभिषेक ने …

मुंबई : इंडियन स्ट्रीट प्रीमियर लीग (आईएसपीएल) जल्द ही लोगों का मनोरंजन करने के लिए शुरू होने जा रहा है। दर्शकों को इस टेनिस बॉल आगे पढ़ें »

लोकसभा चुनाव से पहले लागू होगा CAA ?

नई दिल्ली: देश में नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) जल्द लागू हो सकता है। सूत्रों के अनुसार, लोकसभा चुनाव के लिए आदर्श आचार संहिता जारी होने आगे पढ़ें »

ऊपर