टेस्टिंग में अब भी उत्तर बंगाल टॉप पर, एसएसकेएम दूसरे नंबर पर

अब तक राज्य में 2 करोड़ से अधिक की हो चुकी है टेस्टिंग
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाताः कोरोना वायरस महामारी में कोविड की रोकथाम में टेस्टिंग बड़ा हथियार साबित हुआ है। देश के हर हिस्से में ही हेल्थ एक्सपर्ट कोविड की टेस्टिंग, ट्रेसिंग व ट्रीटमेंट पर जोर देने की बात कर रहे हैं। यही वजह है कि प्रदेश में भी कोरोना वायरस की टेस्टिंग काफी बढ़ाई गई। अब तक कुल टेस्टिंग का आंकड़ा राज्य में 2,31,26,157 हो चुका है। टेस्टिंग में उत्तर बंगाल काफी आगे है। यहां अकेले नॉर्थ बंगाल मेडिकल कॉलेज व हॉस्पिटल (एनबीएमसीएच) में ही कुल 6,15,837 की टेस्टिंग हो चुकी है। इसके बाद एसएसकेएम हॉस्पिटल शामिल है, जहां कि कुल 5,99,809 की टेस्टिंग हुई है। निजी लैब की बात करें तो प्रदेश में 5,45,638 के तौर पर डॉ. लाल पैथ लैबोरेटरी तीसरे स्थान पर है।
प्रति मिलियन
राज्य में प्रति मिलियन 2,56,957 की टेस्टिंग की जा रही है। अब कुल टेस्टिंग लैबोरेटरी की संख्या 160 हो चुकी है। वरिष्ठ फीजिशियन डॉ.एस.के.अग्रवाल ने कहा कि टेस्टिंग से ही दरअसल सही तस्वीर कोविड की उभरकर सामने आ सकती है। ऐसे में यह काफी अच्छी बात है कि हमारे यहां भी टेस्टिंग काफी बढ़ी है। इससे कोविड की निगरानी में विशेष सहूलियत हासिल हुई।
कहां कितनी टेस्टिंग (कुछ जगहों के तथ्य)
लैब/अस्पताल-टेस्टिंग
एनबीएमसीएच-6,15,837
एसएसकेएम-5,99,809
डॉ.लाल पैथ लैब-5,45,638
मालदह एमसीएच-5,01,610
(नोटःआंकड़े स्वास्थ्य व परिवार कल्याण विभाग,पश्चिम बंगाल सरकार)
हाल के दिनों में राज्य में टेस्टिंग (जनवरी 2022)
तिथि-टेस्टिंग
28-61,883
25-63,123
22-82,564
23-73,214
20-67,367
9-71,664
12-71,792
13-73,043
15-64,572
(नोट-आंकड़े स्वास्थ्य व परिवार कल्याण विभाग, पश्चिम बंगाल सरकार)

शेयर करें

मुख्य समाचार

दो सालों बाद सजी ढाक की धुन, पंडालों में पहुंचे ढाकी

सन्मार्ग संवाददाता काेलकाता : ढाकी की धुन और धुनुची नृत्य से पूजा का उत्साह चरम पर होता है। देखा जाये तो दुर्गापू​जा में बिना ढाक के आगे पढ़ें »

नवरात्रि के छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा से मिलती है…

कोलकाताः शास्त्रों के अनुसार नवरात्रि की षष्ठी तिथि मां कात्यायनी की पूजा को समर्पित है। मां दुर्गा का यह छठा स्वरूप बहुत करुणामयी है। माना आगे पढ़ें »

ऊपर