कोलकाता में भारी बारिश के कारण जनजीवन अस्त-व्यस्त

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : कोलकाता और पश्चिम बंगाल के दक्षिणी क्षेत्रों में भारी बारिश के कारण आम जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है और सोमवार को लोगों को आवाजाही में परेशानियों का सामना करना पड़ा। मौसम विभाग ने बताया कि दक्षिण छत्तीसगढ़ के आसपास बने कम दबाव के क्षेत्र के कारण पश्चिम बंगाल के तटीय इलाकों में कल यानी बुधवार तक बारिश और 35 से 45 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने की संभावना है। भारी बारिश के कारण सार्वजनिक परिवहन बाधित होने के चलते बच्चों को स्कूल और लोगों को अपने कार्यस्थल जाने में परेशानियों का सामना पड़ा। कोलकाता में सुबह से औसतन 7-8 मिमी प्रति घंटे की दर से बारिश हो रही है, और सभी पंपिंग स्टेशन चालू हैं। नगर निकाय के एक अधिकारी ने कहा कि निचले इलाकों से पानी निकालने के लिए पर्याप्त संख्या में कर्मियों को तैनात किया गया है। मौसम विभाग ने मंगलवार की सुबह तक कोलकाता, उत्तर 24 परगना, हावड़ा, हुगली, झाड़ग्राम, पश्चिम मिदनापुर, बीरभूम, मुर्शिदाबाद और नदिया जिलों में भारी बारिश का अनुमान जताया है। विभाग ने तटीय जिलों पूर्वी मिदनापुर और दक्षिण 24 परगना में बुधवार की सुबह तक भारी से बहुत भारी बारिश होने की चेतावनी दी है। एक सरकारी अधिकारी ने कहा कि मछुआरों को कल यानी बुधवार तक बंगाल की खाड़ी में नहीं जाने की सलाह दी गई है। उन्होंने कहा कि तटीय क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को सुरक्षित स्थानों पर जाने के लिए कहा गया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

दो सालों बाद सजी ढाक की धुन, पंडालों में पहुंचे ढाकी

सन्मार्ग संवाददाता काेलकाता : ढाकी की धुन और धुनुची नृत्य से पूजा का उत्साह चरम पर होता है। देखा जाये तो दुर्गापू​जा में बिना ढाक के आगे पढ़ें »

नवरात्रि के छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा से मिलती है…

कोलकाताः शास्त्रों के अनुसार नवरात्रि की षष्ठी तिथि मां कात्यायनी की पूजा को समर्पित है। मां दुर्गा का यह छठा स्वरूप बहुत करुणामयी है। माना आगे पढ़ें »

ऊपर