नया खुलासा : एसएससी​ मामले में अर्पिता बनना चाहती है सरकारी गवाह

कहा – उसे पता ही नहीं था कि उसके घर में इतने रुपये रखे हुए हैं
पार्थ चटर्जी के लोग आते थे और रुपये रखकर ताला लगा देते थे
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : एसएससी मामले में गिरफ्तार पूर्व शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी की सहयोगी अर्पिता मुखर्जी अब सरकारी गवाह बनना चाहती है। सूत्रों के मुताबिक ईडी की टीम ने जब उनसे इस बारे में पूछताछ की तो उन्होंने हामी भर दी। गत मंगलवार को अलीपुर के विशेष सीबीआई कोर्ट में दी गई चार्जशी​ट में यह जानकारी दी गई है। पूछताछ के दौरान अर्पिता ने ईडी अधिकारियों से सरकारी गवाह बनने की गुहार लगाई है। इसके साथ ही उसने कहा है कि उसके घर में कौन-कौन लोग आते थे, पैसे किसके थे, उसे नहीं पता था। पार्थ चटर्जी के कहने पर ही यह सब होता था। उन लोगों के बारे में भी अर्पिता सरकारी गवाह के तौर पर बयान देने के लिए तैयार हुई है।
इससे कम होगी अर्पिता की सजा
इससे एक तरफ उसकी सजा कम होगी तो दूसरी तरफ भ्रष्टाचार में शामिल लोगों के खिलाफ कानूनी शिकंजा और मजबूत होने वाला है। इससे पार्थ की तो मुश्किलें और बढ़ेंगी। साथ ही कुछ अन्य बड़े नेता भी स्कैनर में आ सकते हैं। ईडी की चार्जशीट में दोनों की 103 करोड़ की संपत्ति अटैच की गयी है। इनमेें 50 करोड़ कैश, 5 करोड़ का गहना, 40 करोड़ की अचल संपत्ति, इसके अलावा एफडी और 31 जीवन बीमा पॉलिसी, जिसका साल भर का प्रीमियम 1.5 करोड़ रुपये पार्थ चटर्जी दिया करते थे। चार्जशीट में कहा गया है कि अर्पिता मुखर्जी के नाम से 31 एलआईसी पॉलिसी मिली है। इनका कुल वार्षिक प्रीमियम डेढ़ करोड़ रुपये से अधिक था, जिसका भुगतान पार्थ चटर्जी करते थे।
कैश वाले कमरों की चाबी नहीं थी उसके पास
उसके घर में जिन कमरों में रुपये रखे गये थे उनकी चाबी उसके पास नहीं थी। रुपये रखने के बाद उसमें ताला बंद कर दिया जाता था और उसकी चाबी भी कथित तौर पर अर्पिता के पास नहीं रहती थी। इधर, ईडी की चार्जशीट में उल्लेख किया गया है कि अर्पिता मुखोपाध्याय मां बनना चाहती थी। इसके लिए पार्थ की ओर से उन्हें नो ऑबजेक्शन सर्टिफिकेट भी दिया गया था कि उन्हें किसी को अपनाने से कोई आपत्ति नहीं है। अर्पिता के फ्लैट की तलाशी के दौरान इससे संबंधित दस्तावेज बरामद हुए। इस बारे पार्थ से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि कई लोग उनके पास कई विषयों में सर्टिफिकेट लेने आए थे, जरूरत पड़ने पर उन्होंने कई सर्टिफिकेट भी दिये थे। ईडी की चार्जशीट में काफी ऐसे दस्तावेज मिले हैं जो कि काफी सनसनी फैलाने वाले हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

एसएससी मामले में गिरफ्तार सुबीरेश भट्टचार्य को 10 दिनों की जेल हिरासत

अदालत ने सीबीआई के जांच अधिकारी की लगायी क्लास जज ने पूछा- क्यों चाहिए सीबीआई हिरासत वजह बताईए सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : सोमवार को एसएससी मामले में गिरफ्तार आगे पढ़ें »

विदेश में नौकरी देने के नाम पर अपहरण मामले में और 7 गिरफ्तार

अभियुक्तों में मकान मालिक और दो दिल्ली के एजेंट भी शामिल सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : विदेश में नौकरी देने के नाम पर अपहरण मामले में और सात आगे पढ़ें »

ऊपर