नदिया रेप केस : पीड़िता को घर छोड़ने वाली महिला आई सामने, कह दी ये बात, जान हो जायेंगे हैरान

नदिया : नदिया गैंग रेप का मामला काफी तुल पकड़ लिया है। हाई कोर्ट के आदेश के बाद सीबीआई ने जांच भी शुरू कर दी है। इस बीच शुक्रवार को वो महिला भी सामने आ गई जिसने पीड़िता को उसके घर तक छोड़ा था। महिला ने कहा कि लड़की सड़क के किनारे बैठी थी क्योंकि वह अस्वस्थ महसूस कर रही थी। रिपोर्ट के मुताबिक नाबालिग लड़की से कथित तौर पर 9 अप्रैल को बलात्कार किया गया था जब वह पश्चिम बंगाल के नादिया जिले के हंसखली इलाके में एक स्थानीय टीएमसी नेता के बेटे की जन्मदिन की पार्टी में गई थी। मामले के मुख्य आरोपी टीएमसी नेता समर ग्वाला के बेटे ब्रजा गोपाल ग्वाला (21) को गिरफ्तार कर लिया गया। दूसरे आरोपी प्रभाकर पोद्दार को बाद में ब्रज गोपाल ग्वाला के बयान के आधार पर गिरफ्तार किया गया।
पीड़िता की मां ने पहले कहा था कि उसकी बेटी को एक पोली बिस्वास नाम की महिला ने घर तक छोड़ा था। अब यह महिला सामने आई है। महिला ने कहा ‘लड़की उसे सड़क के किनारे बैठी मिली थी। मैं अपने भतीजे के साथ दादा-दादी के घर जा रही थी। रास्ते में मैंने देखा कि बाइक पर दो लोग सड़क किनारे बैठी लड़की के पास थे। जैसे ही मैं उन्हें पार कर थी तभी लड़की ने मुझसे घर छोड़ने का अनुरोध किया। वह बहुत सामान्य तरीके से बात कर रही थी।’
बिस्वास मान गई और लड़की को अपनी साइकिल चलाने के लिए कहा जो उसके पास थी। लेकिन उसने अस्वस्थ होने की बात कहते साइकिल चलाने में असमर्थता जताई। बिस्वास ने आगे कहा ‘तब मैंने लड़की की साइकिल पकड़ी और उसे कैरियर पर बैठाया। लेकिन मैंने अकेले जाने से मना कर दिया तो दोनों बाइक सवार उसके साथ गए थे। बिस्वास ने आगे कहा कि वो लगभग 6-7 बजे तक लड़की को उसके घर पर छोड़ दी। उस समय उसकी मांग घर पर थी। मुछे यकीन नहीं है कि वह नशे में थी।’
बता दें कि 14 वर्षीय लड़की की कथित तौर पर सामूहिक बलात्कार का शिकार होने के बाद मौत हो गई थी। पीड़िता के परिवार ने टीएमसी पंचायत नेता के बेटे पर आरोप लगाए थे। मामले में पुलिस ने धारा 376(2)(G) (सामूहिक बलात्कार), 302 (हत्या), 204 (सबूत के साथ छेड़छाड़) और पॉक्सो की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया था।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

नवरात्रि में इन लोगों को जरूर करनी चाहिए मां चंद्रघंटा की पूजा, जानें तीसरे दिन का रंग

कोलकाताः नवरात्रि के तीसरे दिन मां दुर्गा के तृतीया रूप मां चंद्रघंटा की पूजा की जाती है। 28 सितंबर 2022 को मां चंद्रघंटा की पूजा आगे पढ़ें »

योग्य प्रार्थियों को नौकरी देने के लिए राज्य तैयार, एसएससी पहुंचा कोर्ट

जरूरी हो तो 'गलत तरीके' की गयी नियुक्तियाें को भी रद्द करने को तैयार कुल 14,977 पद सृजित किये जा रहे हैं इनमें से 5,261 पद सृजित आगे पढ़ें »

ऊपर