स्वतंत्रता दिवस परेड में शामिल नहीं होगी माउंटेड पुलिस की टुकड़ी !

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : इस बार स्वतंत्रता दिवस पर रेड रोड पर होने वाले परेड में कोलकाता पुलिस की माउंटेड पुलिस की टुकड़ी शामिल नहीं होगी। इस बार स्वतंत्रता दिवस परेड में कोलकाता पुलिस के ‘वीनर्स’ वाहिनी को विशेष महत्व दिया जा रहा है। इधर, परेड में माउंटेड पुलिस के शामिल नहीं होने के कारण कई तरह की बातें सामने आ रही हैं। पुलिस सूत्रों के अनुसार, गत गणतंत्र दिवस के परेड के दौरान कोलकाता पुलिस का घोड़ा तत्कालीन राज्यपाल के मुंह की तरफ अपनी पीठ करके खड़ा हो गया था। उक्त घोड़े द्वारा राज्यपाल की तरफ पीठ करके खड़ा होने का फुटेज सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था। ऐसे में क्या इस घटना के बाद माउंटेड पुलिस की टुकड़ी को स्वतंत्रता दिवस के परेड में शामिल नहीं किया जा रहा है, इसे लेकर विभिन्न प्रकार की चर्चा हो रही है। लालबाजार की ओर से बताया गया कि कोलकाता माउंटेड पुलिस के घोड़े आमतौर पर गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस के दिन रेड रोड पर होने वाले परेड में शामिल होते हैं।
साधारण तौर पर कोई समस्या नहीं होती थी, लेकिन गत जनवरी महीने में ‘आईकोनिक’ नामक घोड़े ने कथित तौर पर थोड़ी शरारत कर दी। गणतंत्र दिवस पर परेड के दौरान लाइन से निकलकर कोलकाता पुलिस का घोड़ा खड़ा हो गया। एक तरफ जहां सभी घोड़े व्यवस्थ‌ित तरीके से आगे बढ़ रहे थे तो तभी ‘आईकोनिक’ तत्कालीन राज्य की तरफ पीठ करके खड़ा हो गया। वह कई सेकेंड तक ऐसे ही अवस्था में खड़ा रहा। इसके बाद जब स्वतंत्रता दिवस परेड को लेकर कोलकाता पुलिस के अधिकारियों की बैठक हुई तो घुड़सवार पुलिस को परेड से बाहर करने का मुद्दा उठा। सबसे पहले, यह सोचा गया था कि ‘आईकोनिक’ जैसे घोड़ों के बजाय, अधिक आज्ञाकारी या लगातार अच्छे रिकॉर्ड वाले घोड़ों को खोजा जा सकता है। लेकिन अंत में लालबाजार के अधिकारी कोई जोखिम नहीं लेना चाहते थे। क्योंकि इस परेड में कई अतिथि और मेहमान मौजूद रहते हैं। इसलिए स्वतंत्रता दिवस परेड से माउंटेड पुलिस को बाहर कर दिया गया। हालांकि एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि गणतंत्र दिवस की घटना की जांच की गयी थी। उसके रिपोर्ट के अनुसार, 20 घोड़े नियम के अनुसार व्यवस्थ‌ित तरीके से आगे बढ़ रहे थे। मुख्य मंच के उल्टी तरफ एक जाइंट स्क्रीन थी। उक्त स्क्रीन पर परेड की लाइव फुटेज दिखायी जा रही थी। स्क्रीन पर घोड़े की तस्वीर देखकर घोड़े चंचल हो उठे। स्क्रीन पर घोड़े की तस्वीर देखते ही आईकोनिक 90 डिग्री घूम गया। इस दौरान उसका पीठ मुख्य मंच की तरफ हो गया। लालबाजार के अधिकारियों के मुताबिक, परेड की रिहर्सल के दौरान आमतौर पर बड़ी स्क्रीन या वीडियो कैमरा क्रेन मौजूद नहीं होती है। घोड़े परेड में वस्तुओं से घबरा जाते हैं। इसलिए उन्हें इस परेड में नहीं रखा जाता है ताकि वे परेड के दौरान नियमों को न तोड़ें। लालबाजार के एक अधिकारी ने बताया कि इस बार कोलकाता पुलिस की ‘वीनर्स’ की टीम रेड रोड पर स्कूटी लेकर आगे आएगी। इन बलों की संख्या अब 100 से अधिक है। यह बल पूरे कोलकाता में महिलाओं की सुरक्षा की देखभाल से लेकर कमर में पिस्तौल के साथ वीवीआईपी ड्यूटी भी करता है। परेड के दौरान उनके बारे में जानकारी भी दी जाएगी। इसके अलावा कोलकाता पुलिस की रैपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) परेड करेगी। बाइक के साथ परेड में ट्रैफिक पुलिस के सार्जेंट भी शामिल होंगे। कोलकाता पुलिस बैंड बी परेड में शामिल होगा। हालांकि, कोलकाता पुलिस के घोड़े अगले गणतंत्र दिवस में भाग लेंगे या नहीं, इस पर फैसला बाद में लिया जाएगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

दुर्गापूजा के रंग में बारिश ने डाला भंग

कोलकाता : इस वक्त की बड़ी खबर आ रही है कि आज षष्ठी के साथ ही महानगर में बारिश की शुरुआत हो गयी है। मालूम आगे पढ़ें »

‘नीतीश या लालू नहीं… इस बार बिहार की जनता चाहती है बदलाव’

बिहार : बिहार में वैकल्पिक राजनीति की बात करने वाले प्रशांत किशोर 2 अक्टूबर गांधी जयंती से बिहार में प्रदेशव्यापी जन सूरज पदयात्रा शुरू करने आगे पढ़ें »

ऊपर