80 लाख से अधिक ​जॉब कार्ड का आधार से लिंक नहीं : शुभेंदु

सीबीआई जांच की मांग
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : मनरेगा के जॉब कार्ड धारकों के आधार कार्ड सीडिंग के हालिया अपडेट से पता चला है कि पश्चिम बंगाल में 80 लाख से अधिक जॉब कार्ड का लिंक आधार कार्ड से नहीं है। इसे लेकर विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी ने ट्वीट कर राज्य सरकार पर करारा हमला बोला। इस तरह के ‘काल्पनिक लोगों’ को देने के नाम पर पिछले 10 वर्षों से केंद्र सरकार से हजारों करोड़ों का फंड लिया गया। यह स्वतंत्र भारत का सबसे बड़ा वित्तीय घाेटाला भी हो सकता है। शुभेंदु ने कहा ​कि पश्चिम बंगाल की सरकार ऐसे लोगों कोे रुपये देने के नाम पर केंद्र से फंड वसूल रही है जिनका कोई अस्तित्व ही नहीं है। दूसरे राज्यों में रहने वाले लाखों प्रवासी श्रमिकों के नाम पर भी रुपये लिये गये जबकि श्रमिकों को इस बारे में कुछ पता ही नहीं है। शुभेंदु ने आरोप लगाया कि केंद्र से लिये गये फंड का बड़ा भाग तृणमूल के शीर्ष नेतृत्व को जाता है जो इस फंड का इस्तेमाल गोवा, त्रिपुरा और मेघालय जैसे राज्यों में अपने विस्तार के लिए कर रही है। इधर, कांथी में सभा को संबोधित करते हुए शुभेंदु ने दावा किया कि 10 से 15 लाख जॉब कार्ड नकली हैं। इस मामले में शुभेंदु अधिकारी ने सीबीआई जांच की मांग की। इधर, पंचायत चुनाव को लेकर शुभेंदु ने कहा कि पंचायत का चुनाव पंचायत के मुद्दे पर करें, लेकिन 2024 के चुनाव में यूक्रेन और अफगानिस्तान को देखकर मतदान करें।
राज्यपाल को मैनेज करने में जुटी तृणमूल
संवाददाताओं को संबोधित करते हुए शुभेंदु अधिकारी ने कहा, ‘मौजूदा राज्यपाल को मैनेज करने की पूरी कोशिश तृणमूल कर रही है। पूर्व राज्यपाल व देश के उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने जिस प्रकार कानून व संविधान का उल्लंघन करने को लेकर राज्य सरकार पर दबाव डाला था, उससे तृणमूल सरकार की समस्या काफी बढ़ गयी थी। इस कारण मौजूदा राज्यपाल को शुरू से ही राज्य सरकार मैनेज करने में जुटी हुई है। मौजूदा राज्यपाल शिक्षाविद् हैं और उनके काम करने का तरीका अलग हो सकता है, इस पर मैं कुछ नहीं कहूंगा।’
अमर्त्य सेन तालिबान को दें सलाह
इधर, नोबल पुरस्कार विजेता अमर्त्य सेन के बयान कि ममता बनर्जी देश का अगला प्रधानमंत्री बनने में सक्षम हैं, पर कटाक्ष करते हुए शुभेंदु अधिकारी ने कहा, ‘कोविड के समय वह कहां थे ? चुनाव बाद हिंसा के समय कहां थे ? 2019 के चुनाव से पहले उन्होंने कहा था कि मोदी जी प्रधानमंत्री हो सकते हैं। अमर्त्य बाबू को सलाह देनी है तो अफगानिस्तान की तालिबानी सरकार को दें अथवा यूक्रेन के जेलेनिस्की को दें।’
तृणमूल ने दिया जवाब
अर्मत्य सेन को लेकर शुभेंदु के कटाक्ष का जवाब देते हुए तृणमूल के प्रवक्ता कुणाल घोष ने कहा, ‘अमर्त्य सेन को सावधान होने की आवश्यकता है। दिल्ली एयरपोर्ट से साकेत को जैसे गिरफ्तार किया गया, उसी तरह उन्हें भी गिरफ्तार किया जा सकता है। अमित शाह से कहकर अर्मत्य सेन के घर पर सीबीआई, ईडी भेजी जा सकती है। सीमाई इलाकों में जाने पर बीएसएफ से गिरफ्तार कराया जा सकता है।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

स्वान के 4 बच्चों को कुचलनेवाला ऐप कैब ड्राइवर गिरफ्तार

पोस्ता के काली कृष्ण टैगौर स्ट्रीट की घटना सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : चारों भाई-बहन एक साथ दिन भर खेलते रहते थे। गुरुवार की शाम चारों का सड़क आगे पढ़ें »

बैरकपुर फ्लाईओवर पर मांझा से कटी बाइक सवार की नाक

बैरकपुर : शुक्रवार की दोपहर बैरकपुर फ्लाईओवर पर बाइक से जा रहा अनुपम गांगुली मांझे के कारण एक हादसे का शिकार हो गया। अचानक ही आगे पढ़ें »

ऊपर