ममता ने कहा, मेरी संपत्ति दखल की गयी हो तो चला दो बुलडोजर

राज्‍य सरकार को दिया खुद की संपत्ति की जांच का आदेश
परिवार के लिए बोलीं, एजेंसियों से नोटिस मिली तो कानूनी तरीके से लड़ूंगी
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने राज्य सरकार को खुद की संपत्ति को लेकर जांच करने का आदेश दिया है। बुधवार को मुख्यमंत्री ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि मैं जिस जगह रहती हूँ वह जमीन रानी रासमणि की है जिसे ठेका टेनेंसी के तहत दिया गया है। मैं उस ​जमीन पर अस्थायी किरायेदार हूं। मेरे और मेरे परिवार के खिलाफ अवैध तरीके से संपत्ति दखल करने का कोर्ट में मामला किया गया है। इसे देखते हुए खुद मैंने मुख्य सचिव एच के द्विवेदी को जांच का आदेश दिया है कि अगर सरकारी जमीन मैंने दखल की है या किसी को दिया है तो उस संपत्ति पर बुलडोजर चलवा दें। ये आदेश मैंने अपनी संतुष्टि के लिये दिया है।
परिवार पर कहा, नोटिस आयी तो लड़ूंगी कानूनी लड़ाई
ममता ने कहा कि मेरे परिवार को केंद्रीय एजेंसियों से लगातर नोटिस दी जा रही है। अब अगर नोटिस मिलती है तो मैं कानूनी तरीके से लड़ूंगी, हालांकि यह इन दिनों मुश्किल हो गया है। मालूम हो कि एक दिन पहले ही अभिषेक बनर्जी को कोयला तस्करी के मामले में ईडी की ओर से तलब किया गया है। ममता ने कहा कि भाजपा आरोप लगाती है कि कोयला घोटाले का पैसा कालीघाट जा रहा है लेकिन किसी का नाम नहीं बताती, क्या पैसा मां काली को जा रहा है।
अब ब्लैकमेलिंग की राजनी​ति की जा रही है
ममता ने कहा कि मैं पहले भी कहती आयी हूं कि समाजसेवा के लिए राजनीति में आयी हूं। ओछी राजनीति मुझे पसंद नहीं है। डर्टी पॉ​लिटिक्स मुझे पसंद नहीं है। इन दिनों ब्लैकमेलिंग की राजनीति चल रही है। 11 साल की सत्ता में अब तक ऐसा नहीं हुआ है। मवेशी उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, बिहार से होते हुए राज्य में लाया जा रहा है। कोयला केंद्रीय गृह विभाग के अंतर्गत आता है, हमारा उससे सरोकार नहीं है। अपने कंधे से गंदगी झाड़ कर हो हल्ला मचाया जा रहा है। दरअसल जिनका चेहरा काला है वे ही कोयला-कोयला चिल्ला रहे हैं।
मैं सेटिंग नहीं करती हूं
ममता ने भा​जपा के साथ सांठगांठ के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि मुझे कहा जा रहा है कि मैंने सेटिंग की है, जबकि मैं सेटिंग नहीं करती हूं। मेरे साथ सेटिंग करने के लिए लोग बैठे हैं। अगर मुझे सेटिंग करनी होती तो 34 सालों के माकपा के शासनकाल में सेटिंग कर लेती न कि आंदोलन करके शरीर के हर हिस्से में मार खाती।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अब दूसरे मामले में नौशाद सिद्दीकी को 6 दिनों की पुलिस हिरासत

पंचायत चुनाव तक मुझे जेल में रखना चाहती है तृणमूल - नौशाद सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : भांगड़ से आईएसएफ विधायक नौशाद सिद्दीकी को शुक्रवार को 6 दिनों आगे पढ़ें »

शुभेंदु के बाद दिलीप और मिठुन ने भी कहा, ‘अल्पसंख्यक विरोधी नहीं है भाजपा’

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : राज्य में पंचायत चुनाव होने वाले हैं और अगले साल लोकसभा चुनाव भी है। ऐसे में भाजपा अभी से खुद को आगे पढ़ें »

ऊपर