मालदह के स्कूल में पीओके को ‘आजाद काश्मीर’ दिखाने को कहा गया

माध्यमिक टेस्ट पेपर के सवाल को लेकर विवाद
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : विभिन्न स्कूलों के परीक्षा प्रश्नपत्र को लेकर हाल में माध्यमिक का टेस्ट पेपर प्रकाशित किया गया था। हालांकि इस टेस्ट पेपर को लेकर विवाद चालू हो गया है। आरोप है कि मालदह के एक स्कूल में परीक्षार्थियों को भारत के मैप में ‘आजाद काश्मीर’ चिह्नित करने के लिए कहा गया है। टेस्ट पेपर में ये सवाल किया गया है। मंगलवार को ये मामला सामने आने के बाद इसे लेकर सवाल उठ रहे हैं। इस मुद्दे पर केंद्रीय शिक्षा राज्य मंत्री भी मुखर हुए। हालांकि स्कूल प्रबंधन का दावा है कि ‘आजाद काश्मीर’ को लेकर स्कूल की ओर से कोई गलती नहीं की गयी है। टेस्ट पेपर में मालदह के रामकृष्ण मिशन विवेकानंद विद्यामंदिर का प्रश्नपत्र प्रकाशित हुआ है। आरोप है ​कि इसमें पाक अधिकृत काश्मीर का उल्लेख ‘आजाद काश्मीर’ कहकर किया गया है।
विपक्ष ने जतायी तीखी प्रतिक्रिया
इसे लेकर केंद्रीय ​शिक्षा राज्य मंत्री डॉ. सुभाष सरकार ने तीखी प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए कहा, ‘इस बारे में राज्य के शिक्षा मंत्री को जानकारी लेनी होगी। कौन इसके पीछे है, यह जानना होगा। आरोप सही होने पर प्रकाशक के खिलाफ कदम उठाना होगा। अगर ऐसा सच में हुआ है तो यह राज्य की तुष्टीकरण की नीति का नतीजा है। इसमें राष्ट्रवाद विरोधी बात है और इससे अलगाववादी उत्साहित होंगे। इस मामले में केंद्र सरकार अलग से स्वाधीन तौर पर जांच करेगी।’ इधर, वायरल इस टेस्ट पेपर की तस्वीरें सोशल मीडिया पर पोस्ट कर भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा, ‘तृणमूल सरकार अलगाववादियों का समर्थन करती है। 2023 के टेस्ट पेपर के 132 नंबर पन्ने पर इतिहास का प्रश्नपत्र देखें। पाक अधिकृत काश्मीर को आजाद काश्मीर के तौर पर चिह्नित करने को कहा गया है।’ वहीं वरिष्ठ कांग्रेस नेता व सांसद प्रदीप भट्टाचार्य ने कहा, ‘शिक्षकों को इस तरह के सवालों से दूर रहना चाहिये। आजाद काश्मीर क्यों पाकिस्तान में है, इसका लंबा इतिहास रहा है। मुझे लगता है कि इस तरह के सवाल नहीं पूछे जाने चाहिये।’
यह कहना है शिक्षक संगठन का
बंगीय शिक्षक व शिक्षा कर्मी समिति के महासचिव स्वपन मण्डल ने कहा, ‘टेस्ट पेपर में आजाद काश्मीर उल्लेख करने को कहा गया है। यह काफी विवादित मुद्दा है और भारत के लोग आजाद काश्मीर नहीं कहते, पाकिस्तान कहता है। मध्य ​शिक्षा पर्षद को इसे नजर में रखना चाहिये था क्योंकि इससे बड़ा विवाद हो सकता है। इस गलती को लिखित में संशोधित करना चाहिये। यह हमारे नहीं बल्कि दूसरे देश का मामला है।’
क्या कहा स्कूल प्रबंधन ने
मालदह के रामकृष्ण मिशन विवेकानंद विद्यामंदिर के प्रधान शिक्षक तर्पहरानंद ने कहा, ‘स्टूडेंट्स के सामने इतिहास को लाने की कोशिश की है, और कुछ नहीं है। कोई दूसरी भावना स्टूडेंट्स में डालने की मंशा नहीं है। स्टूडेंट्स में राष्ट्रवाद, देश प्रेम की भावना जगाने के लिए यही स्वामीजी की भावना है, मैंने यही किया है। जो सच्चाई इतिहास के पन्नों में है, उसे सामने लाने की कोशिश की है। सरकारी पुस्तकों के आधार पर सवाल करता हूं, पढ़ाता हूं। पुस्तक से ही सवाल किया गया है।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

मवेशी तस्करी मामला : शांतिनिकेतन पहुंचा सीबीआई का प्रतिनिधिमंडल

कोलकाताः गौ तस्करी मामले में शांतिनिकेतन पहुंचा सीबीआई का प्रतिनिधिमंडल। गौ तस्करी मामले में सीबीआई के जांच अधिकारी सुशांत भट्टाचार्य पहुंचे शांतिनिकेतन के रतनकुथी गेस्ट आगे पढ़ें »

विधवा मां के थे अवैध संबंध, बेटी ने किया विरोध तो उसको उतारा मौत के घाट

नदियाः पिता की मौत के बाद मां इलाके के ही एक युवक के साथ प्रेम संबंध बनाने लगी। महिला की 18 वर्षीय बेटी इस बात आगे पढ़ें »

ऊपर