कोलकाता के 13 वार्ड ‘हाई रिस्क डेंगू जोन’, कहीं आपका वार्ड भी…

कोलकाताः कोलकाता समेत राज्यवासियों को अब डेंगू का डर सताने लगा है। पिछले साल की तुलना में अगस्त के पहले सप्ताह तक पश्चिम बंगाल में डेंगू के मामले लगभग सात गुणा बढ़ गए हैं। कम से कम 11 नगरपालिकाओं को उन क्षेत्रों की पहचान की गई है, जहां तेजी से बुखार के मामले बढ़े हैं। राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि 2021 में अगस्त के पहले सप्ताह तक लगभग 450 डेंगू के मामलों का पता चला था। इस साल, इसी अवधि के दौरान यह संख्या बढ़कर 3,104 हो गई है। स्वास्थ्य विभाग ने मुख्य सचिव एचके द्विवेदी को एक रिपोर्ट सौंपी है जिसमें राज्य भर के उन जिलों पर प्रकाश डाला गया है, जहां पिछले पांच वर्षों में डेंगू के मामलों ने रिकॉर्ड तोड़ दिया है।

स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया, 2017 के बाद से जनवरी और अगस्त के बीच सबसे अधिक मामले 89 थे। इस साल यह बढ़कर 768 हो गये हैं। कलिम्पोंग में सिर्फ एक मामला दर्ज किया गया था। इस साल, जिले में 56 मामले दर्ज किए गए हैं। अन्य जिले जहां पिछले पांच वर्षों के रिकॉर्ड टूटे हैं, वे हैं हावड़ा, हुगली, बीरभूम और मालदह।
इन जगहों की हुई पहचान
स्वास्थ्य विभाग ने कोलकाता, हावड़ा, बिधाननगर, पानीहाटी, बाली, टीटागढ़, कमरहाटी, राजपुर-सोनारपुर, आसनसोल, इंग्लिशबाजार और सिलीगुड़ी की पहचान उन जगहों में की है, जहां मच्छर जनित बीमारी तेजी से बढ़े हैं। उत्तर 24 परगना के निवासी मोहन भट्टाचार्य ने बताया, मेरे परिवार के चार सदस्यों में से तीन, जिनमें मैं, मेरी पत्नी और मेरी बेटी शामिल थे, बीमारी से पीड़ित थे, जबकि मैं ठीक हो गया हूं, मेरी पत्नी और बेटी अभी भी ठीक हो रही हैं। कोलकाता नगर निगम ने कम से कम 13 वार्डों की पहचान अत्यधिक डेंगू से ग्रस्त वार्डों के रूप में की है। इसने निजी प्रयोगशालाओं और अस्पतालों को डेटा जमा करने के लिए भी कहा है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

तृणमूल में सब चोर नहीं, अच्छे लोग मेरे संपर्क में : मिठुन

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : राज्य की सत्ताधारी पार्टी में सब ‘चोर’ नहीं हैं, कुछ नेता अच्छे भी हैं और उन अच्छे नेताओं के साथ भाजपा संपर्क आगे पढ़ें »

शुभेंदु के बाद अब सुकांत ने दिसम्बर का डेडलाइन तय किया

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : शुभेंदु अधिकारी व दिलीप घोष के बाद अब प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सुकांत मजूमदार ने दावा किया कि दिसम्बर महीने तक तृणमूल सरकार आगे पढ़ें »

ऊपर