2021-22 में पश्चिम बंगाल में हुआ 47746.62 करोड़ रुपए तक निवेश

शेयर करे

निजी क्षेत्र में पश्चिम बंगाल भारी निवेश आकर्षित कर रहा है
परियोजनाओं को पूरा करने की गति बढ़ रही है
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : पश्चिम बंगाल ने 2021-22 में 47746.62 करोड़ रुपये तक के निजी क्षेत्र के निवेश को आकर्षित किया है और 2022-23 में परियोजना पूर्णता में 238.8 बिलियन रुपये की अभूतपूर्व वृद्धि देखने की उम्मीद है। यह 2021-22 में पूरी हुई परियोजनाओं के मूल्य से 95 प्रतिशत अधिक है।
एमएसएमई एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल और कॉन्फेडरेशन ऑफ ऑर्गेनिक फूड प्रोड्यूसर्स एंड मार्केटिंग एजेंसियों द्वारा आयोजित “वेस्ट बंगाल में निवेश – विकास और विकास” पर हाल ही में जारी अध्ययन से यह पता चला है।एमएसएमई ईपीसी के अध्यक्ष डी एस रावत ने अध्ययन जारी करते हुए कहा कि निवेश और पूर्णता में वृद्धि कुछ बड़े निवेशों द्वारा संचालित की जा रही है जो वित्त वर्ष 2022-23 के अंत तक पूरा होने के लिए निर्धारित हैं।
सीएमआईई (26 फरवरी, 2023) द्वारा प्रकाशित आंकड़ों के अनुसार, 2021-22 में, घोषित नई निवेश परियोजनाएं 47746.62 करोड़ रुपये की थीं, निवेश परियोजनाएं 12247.25 करोड़ रुपये की पूरी हुईं, और राज्य सरकार ने 10536.81 करोड़ रुपये की परियोजनाओं को पुनर्जीवित किया। वहीं 2020-21 में, 22168.15 करोड़ रुपये की घोषित परियोजनाएँ थीं, 7412.22 करोड़ रुपये की पूरी की गई परियोजनाएं, और 2660.54 करोड़ रुपये की परियोजनाओं को पुनर्जीवित किया गया।
सीएमआईई से मिली जानकारी के मुताबिक अप्रैल से दिसंबर 2022 तक राज्य में पांच-पांच अरब रुपये से अधिक की लागत वाली छह बड़ी परियोजनाएं पूरी की गईं। इन परियोजनाओं का कुल मूल्य 41.6 अरब रुपये बताया गया है। उन्होंने पूरी की गई परियोजनाओं की कुल लागत का 61.6 प्रतिशत हिस्सा बनाया। अब तक पूरी की गई अधिकांश परियोजनाएं बुनियादी ढांचा क्षेत्र में हैं। मार्च 2023 तिमाही में, 170 अरब रुपये की कुल 18 निवेश परियोजनाओं के पूरा होने की उम्मीद है।
यूपी के बाद सबसे अधिक एमएसएमई बंगाल में
डी एस रावत ने कहा, उत्तर प्रदेश के बाद पश्चिम बंगाल में सबसे अधिक एमएसएमई हैं। जबकि यूपी में, एनएसएस के 73 वें दौर के अनुसार, 14% शेयर के साथ 88.89 लाख एमएसएमई हैं, पश्चिम बंगाल में 88.67 लाख 14% शेयर के साथ 88.41 लाख सूक्ष्म, 0.26 लाख छोटे और 0.01 लाख मध्यम 135.52 लाख लोग कार्यरत हैं।
अध्ययन में कहा गया है कि निवेशकों के अनुकूल नीतिगत ढांचे, कच्चे माल की आसान उपलब्धता, आरामदायक बिजली की स्थिति, कुशल मानव संसाधन, स्थिर सामाजिक-राजनीतिक वातावरण के कारण राज्य में एमएसएमई तेजी से बढ़ रहे हैं।
राज्य ने सॉफ्टवेयर और इलेक्ट्रॉनिक्स के क्षेत्र में भारी मात्रा में विदेशी और घरेलू निवेश आकर्षित किया है और आईटी/आईटीईएस/बीपीओ कंपनियों के लिए पसंदीदा स्थान बन रहा है। आईटी क्षेत्र प्रति वर्ष 70 प्रतिशत की दर से बढ़ रहा है, जो राष्ट्रीय औसत से दोगुना है।
अध्ययन कहता है, राज्य से निर्यात लगातार बढ़ रहा है। 2021-22 के दौरान, कुल निर्यात 103599.76 करोड़ रुपये, पेट्रोलियम और amp; कच्चे उत्पाद रु. 3426.84 करोड़। गैर-पेट्रोलियम उत्पादों का कुल निर्यात 100172.92 करोड़ रुपये था; कृषि और संबद्ध उत्पाद Rs.23810.65 करोड़, अयस्क और; खनिज 5118.18 करोड़ रुपये, विनिर्मित माल 70572.35 करोड़ रुपये और अन्य वस्तुएं 671.74 करोड़ रुपये रही।

Visited 110 times, 1 visit(s) today
0
0

मुख्य समाचार

कोलकाता : मेट्रो रेलवे द्वारा चलाये जा रहे स्पेशल नाइट मेट्रो के समय को 20 मिनट कम कर दिया गया
कोलकाता: पश्चिम बंगाल के न्यू जलपाईगुड़ी के पास 17 जून को हुए ट्रेन हादसे ने देशवासियों को झकझोर कर रख
कोलकाता : अगले दो से तीन घंटों में कोलकाता में हल्की बारिश होने वाली है। शहर के अधिक हिस्सों में
पटना: नीट पेपर लीक मामला पूरे देशभर में छाया हुआ है। बिहार के डिप्टी सीएम विजय सिन्हा ने बड़ा दावा
कोलकाता : मानसून दस्तक देने वाला है। इससे पहले इसे लेकर तैयारियों को पूरा करने का निर्देश शहरी विकास तथा
कोलकाता: मौसम विभाग के पूर्वानुमान पर लोगों का भरोसा खत्म हो गया है। पिछले कुछ दिनों से बारिश का पूर्वानुमान
पटना: नीतीश सरकार को पटना हाईकोर्ट से बड़ा झटका लगा है। बिहार में आरक्षण का दायरा बढ़ाए जाने के नीतीश
नोएडा: देश के उत्तरी हिस्सों में भीषण गर्मी पड़ रही है। नोएडा में अलग-अलग जगहों पर बीते मंगलवार को 14
कोलकाता: बंगाल में लोकसभा चुनाव के नतीजे वाले दिन डेबरा में पुलिस कस्टडी में BJP कार्यकर्ता की मौत हुई थी।
कोलकाता: दक्षिण बंगाल के अधिकांश हिस्सों में आज सुबह से ही आसमान में बादल मंडरा रहा है। धूप नहीं होने
नई दिल्ली: NEET परीक्षा को लेकर दायर कई याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान काउंसलिंग रोकने और तत्काल
कोलकाता : मेट्रो की ओर से रात 11 बजे चलायी जा रही नाइट स्पेशल मेट्रो से कम आय हो रही है।
ऊपर