पहाड़ की राजनीति में ऐतिहासिक बदलाव, एक मंच पर आये गुरुंग-एडवर्ड और तमांग

आज दार्जिलिंग नगरपालिका में अविश्वास प्रस्ताव
सन्मार्ग संवाददाता
दार्जिलिंग/कोलकाता : दार्जिलिंग में भले ही कड़ाके की ठण्ड पड़ रही है, लेकिन वहां की राजनीति फिलहाल गरमायी हुई है। पहाड़ा की राजनीति में मंगलवार को उस समय ऐतिहासिक बदलाव हुआ जब पहाड़ पर लोकतंत्र बचाने के लिए हाम्रो पार्टी के अजय एडवर्ड के आंदोलन में गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के सुप्रीमो ​बिमल गुरुंग समेत तृणमूल के विनय तमांग को एक साथ देखा गया। इस दिन संयुक्त संवाददाता सम्मेलन कर तीनों ही नेताओं ने एक स्वर में कहा कि पहाड़ पर लोकतंत्र खतरे में है। यहां उल्लेखनीय है कि आज यानी बुधवार को दार्जिलिंग नगरपालिका में अविश्वास प्रस्ताव लाया जाने वाला है। इससे पहले पहाड़ के तीनों नेताओं का एकजुट होना किसी बड़े बदलाव की ओर इशारा कर रहा है। इसके साथ ही इस दिन विनय तमांग ने तृणमूल छोड़ने की ओर भी इशारा किया। ऐसे में तमांग वापस अपनी पुरानी पार्टी जीजेएम में लौटेंगे या फिर हाम्रो पार्टी में शामिल होंगे, इसे लेकर सवाल उठ रहे हैं।
पार्षदों की खरीद-बिक्री की चल रही कोशिश : गुरुंग
यहां उल्लेखनीय है ​कि आज दार्जिलिंग नगरपालिका में अविश्वास प्रस्ताव से पहले ​बिमल गुरुंग व विनय तमांग को बुलाकर अजय एडवर्ड यह साबित करना चाहते हैं कि गोरखा प्रजातांत्रिक मोर्चा अवैध तरीके से बोर्ड पर दखल चाहती है। पार्षदों को खरीदकर लोकतंत्र की हत्या की कोशिश की जा रही है। इस मुद्दे पर बिमल गुरुंग ने कहा, ‘पहाड़ पर अभी किसी तरह का अनुशासन नहीं है। आंखों के सामने लोकतंत्र की हत्या की जा रही है। रुपये का प्रलोभन दिखाकर पार्षदों की खरीद-बिक्री चल रही है। हम इस राजनीति के खिलाफ ही एकजुट हुए हैं। केवल इतना ही नहीं बल्कि आगामी दिनों में पृथक राज्य को लेकर आंदोलन की रूपरेखा भी हम लोग साथ मिलकर तैयार करेंगे। केंद्र व राज्य को हम ये मेसेज देना चाहते हैं कि वह अपना वादा पूरा करने में व्यर्थ है।’
निष्पक्ष नहीं हुए पार्षद तो छोड़ दूंगा पार्टी : तमांग
इस दिन विनय तमांग ने कहा, ‘अविश्वास प्रस्ताव में 5 नं. वार्ड के तृणमूल पार्षद संजय गुरुंग को निष्पक्ष रहना होगा क्योंकि वह हमारे सभासद के तहत हैं। ऐसा नहीं होने पर मैं पार्टी छोड़ सकता हूं और यह बात मैंने कोलकाता हाईकमान को भी बता दी है। पहाड़ पर लोकतंत्र की रक्षा के लिए मैं इस आंदोलन में शामिल हुआ हूं।’ वहीं हाम्रो पार्टी के अध्यक्ष अजय एडवर्ड ने इस दिन धमकी दी। उन्होंने स्पष्ट तौर पर कहा, ‘धारा 144 जारी हो या ना हो, हमारा आंदोलन शांतिपूर्ण चल रहा है और चलेगा। अगर किसी ने इसमें बाधा देने की कोशिश की तो मुझे गिरफ्तार करना होगा। हम लोग अशांति के खिलाफ हैं जिस कारण केवल गाना गाकर और कविताएं लिखकर ही आंदोलन कर रहे हैं।’
यह कहा बीजीपीएम ने
इस बीच, भारतीय गोरखा प्रजातांत्रिक मोर्चा (बीजीपीएम) ने नये बोर्ड के गठन की तैयारी चालू कर दी है। बोर्ड गठन की बात पर निश्चित होते हुए भारतीय गोरखा प्रजातांत्रिक मोर्चा के प्रवक्ता केशवराज पोखरेल ने कहा, ‘वे हारने के भय से आशंकित हैं। अपने स्वार्थों के लिए गलत आंदोलन कर रहे हैं। केवल इतना ही नहीं, शांतिपूर्ण पहाड़ को अशांत करने की कोशिश की जा रही है। हमारे देश में नेता पार्टी बदलते रहते हैं। बिमल गुरुंग ने खुद सुभाष घीसिंग को पहाड़ से खदेड़ा था। ऐसे में उनकेे इस आंदोलन को पहाड़ में कोई महत्व नहीं दिया जा रहा है।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

हाते खोड़ी कार्यक्रम के बाद ही दिल्ली पहुंचे राज्यपाल

परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम में वर्चुअल रूप से हुए शामिल, पीएम मोदी को सराहा सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता/नई दिल्ली : राज्यपाल डॉ. सी.वी. आनंदा बोस गुरुवार को हाते आगे पढ़ें »

हावड़ा-पुरी के बीच दौड़ेगी 8 कोच की नई मिनी वंदे भारत ट्रेन

हावड़ा : भारतीय रेलवे 2 रूटों पर मिनी वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन चलाने चल रही है। हावड़ा-न्यूजलपाईगुड़ी के बाद अब रेलवे मंत्रालय अगले महीने से आगे पढ़ें »

ऊपर