कोरोना से मृत्यु के 5 महीने के बाद हाईकोर्ट ने दिया डीएनए टेस्ट का आदेश

कोलकाता : कलकत्ता हाईकोर्ट ने मंगलवार को एक ऐतिहासिक फैसला सुनाया है। कलकत्ता हाई कोर्ट के न्यायाधीश राजशेखर मंथर ने मृतका की मौत के 5 महीने बाद उसके डीएनए टेस्ट के आदेश दिए हैं। बता दें कि काकली सरकार को 22 अप्रैल को कोरोना से पीड़ित होने के बाद मिडलैंड नर्सिंग होम में भर्ती कराया गया था, लेकिन 25 अप्रैल की सुबह उनका निधन हो गया था। मृतका की मौत के बाद परिवार के सदस्यों ने अंग बिक्री का आरोप लगाते हुए कलकत्ता उच्च न्यायालय में याचिका दायर की है। परिवार ने दावा किया कि मौत से पहले काकली देवी ने जानकारी दी थी कि यहां अंगों की बिक्री का एक बड़ा गिराह काम कर रहा है। नर्सिंग होम उनके अंगों को बेचने की योजना बना रहा है। आरोप के कुछ देर बाद ही नर्सिंग होम की एक नर्स ने एक इंजेक्शन लगाया और काकली देवी की मौत हो गई थी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सप्तमी पर महानगर में ट्रैफिक व्यवस्था हुई प्रभावित

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : महासप्तमी के अवसर पर रविवार को महानगर की सड़कों पर लोगों की भारी भीड़ उमड़ी। पूजा पंडाल घूमने के लिए लोगों की आगे पढ़ें »

पार्थ के खिलाफ दाखिल चार्जशीट का तकनीकी रोड़ा

अभी इंतजार है राज्य सरकार की अनुमति का सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : टीचर नियुक्ति घोटाले में सीबीआई की तरफ से पहली चार्जशीट अलीपुर के सीबीआई कोर्ट में आगे पढ़ें »

ऊपर