यूक्रेन और रूस संकट गहराने से बढ़ी सोने की कीमतें

तेल व खाद्यान समेत और भी कई चीजें हो सकती हैं महंगी
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : रूस ने यूक्रेन पर युद्ध की घोषणा कर दी है और इसके साथ ही तीसरे विश्व युद्ध की ओर कदम बढ़ाया जा चुका है। रूस और यूक्रेन के बीच उत्पन्न इस संकट की स्थिति के कारण कई चीजों के दाम बढ़ने की संभावनाएं जतायी जा रही हैं। इस बीच, सोने की कीमतों में तेजी आ गयी है। बताया ​जा रहा है कि सोने की कीमतों में आयी इस उछाल का कारण यूक्रेन और रूस के बीच पैदा हुई संकट की स्थिति ही है। साथ ही यह भी कहा जा रहा है अगर ये संकट इसी प्रकार जारी रहा तो फिर आने वाले दिनों में कई और चीजें महंगी हो सकती हैं।
क्या कहता है बुलियन एसोसिएशन
वेस्ट बंगाल बुलियन एसोसिएशन के सेक्रेटरी दिनेश काबरा ने सन्मार्ग को बताया, ‘यूक्रेन और रूस के बीच पैदा संकट की स्थिति के कारण ही सोने के दामों में तेजी आ गयी। इसका कारण है कि कैपिटल मार्केट खराब हो रहा है और लोग अपने रुपये बचाने के लिए सोने में निवेश कर रहे हैं। डॉलर के मुकाबले रुपया भी कमजोर हुआ है यानी लोग रुपये के मुकाबले डॉलर या फिर सोना में निवेश कर रहे हैं। अगर आगे भी ये संकट की स्थिति जारी रही तो आने वाले दिनों में सोने की कीमतें और बढ़ने की संभावना है।’
क्या कहते हैं ज्वेलर्स
सावनसुखा ज्वेलर्स के रूपचंद सावनसुखा ने कहा, ‘सोने का दाम और बढ़ने की संभावना है क्योंकि यूक्रेन और रूस के बीच संकट के कारण देश और विश्व भर में इसका असर होगा।’ इसी तरह आर.आर. अग्रवाल ज्वेलर्स के आर. आर. अग्रवाल ने कहा, ‘जब तक यूक्रेन और रूस के बीच का संकट नहीं सुलझता है, तब तक सोने के दामों में तेजी इसी प्रकार जारी रहने की संभावना है। आने वाले दिनों में सोने की मांग इसी तरह बढ़ेगी और ये तय है कि मांग बढ़ने के साथ – साथ दाम भी बढ़ेंगे। युद्ध की स्थिति के कारण सब कुछ पर अनिश्चितता हो जाती है चाहे वह स्टॉक मार्केट हाे या फिर प्रॉपर्टी। लोग केवल सोने-चांदी में निवेश करते हैं क्योंकि इसमें खतरा काफी कम रहता है। इस कारण सोने के दाम और बढ़ने की संभावना है।’
तेल समेत इन चीजों के दामों में भी हो सकती है वृद्धि
यूक्रेन संकट के बीच तेल समेत अन्य कई चीजों के दामों में भी वृद्धि होने की संभावना है। बताया जा रहा है कि कच्चे तेल की कीमतों में वृद्धि के कारण एलपीजी और केरोसिन की सब्सिडी महंगी हो सकती है। इसके अलावा पेट्रोल-डीजल के दाम भी बढ़ने की संभावना है। भारत के कुल आयात का 25% तेल का आयात होता है। अपनी जरूरत का 80% से ज्यादा तेल भारत आयात करता है। इसके अलावा अगर ब्लैक सी क्षेत्र से खाद्यान्नों के आवागमन में बाधा हुई तो इसका असर दामों पर पड़ेगा और इस कारण खाद्य मुद्रास्फीति तेज हो सकती है। दुनिया का श्रेष्ठ गेहूं निर्यातक रूस है जबकि यूक्रेन चौथा सबसे बड़ा निर्यातक है। दोनों राष्ट्र मिलकर गेहूं के कुल वैश्विक निर्यात का लगभग क्वार्टर हिस्सा निर्यात करते हैं। अगर ये संकट जारी रहा तो फिर एनर्जी और खाद्यान्न के दामों में वृद्धि हो सकती है। इसके अलावा धातु जैसे कि पैलेडियम जिसका इस्तेमाल ऑटोमोटिव सिस्टम और मोबाइल फोन में किया जाता है, उसकी कीमतें भी आने वाले दिनों में बढ़ सकती हैं।

गोल्ड रेट कुछ यूं हैं
23 फरवरी 2022
रेट रु./ग्राम
22 कैरेट 4910
18 कैरेट 4017
24 फरवरी 2022
रेट रु./ग्राम
22 कैरेट 5100
18 कैरेट 4173
23 तारीख : 10 ग्राम सोने की कीमत : 50,180
24 तारीख : 10 ग्राम सोने की कीमत : 51,110

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

विदेशी में नौकरी दिलाने के नाम पर कोलकाता में युवकों का अपहरण, ली गयी 5 करोड़ से अधिक की फिरौती

अंतरराष्ट्रीय किडनैपिंग व फिरौती वसूलनेवाले गिरोह का फंडाफोड़ न्यू टाउन के फ्लैट से 18 युवकों का उद्धार पंजाब और हरियाणा सहित अन्य राज्यों के युवकों को बनाते आगे पढ़ें »

महानगर में 41 नए ईवी चार्जिंग स्टेशन सथापित करेगा निगम

कोलकाता : महानगर में इलेक्ट्रिक वाहनों की संख्या में बढ़ोतरी के मद्देनजर कोलकाता नगर निगम ने शहर भर में पार्किंग लॉट्स में करीब 41 चार्जिंग आगे पढ़ें »

ऊपर