बहुमत के साथ कोलकाता नगर निगम में बनेगा तृणमूल बोर्ड : फिरहाद

कहा : एवर चेंजिंग है कोलकाता, बदलता रहेगा, जिम्मेदारी होगी हमारी
मेयर पद पर बोले, पार्टी का डिसिप्लींड लीडर हूं जो निर्णय होगा मान्य है
सोनू ओझा
कोलकाता : राज्य के कैबिनेट मंत्री, कोलकाता नगर निगम के पूर्व मेयर और अभी कोलकाता के प्रशासक की भूमिका बखूबी निभा रहे फिरहाद हकीम अपनी यूनिक आइडिया के लिए जाने जाते हैं। सिर्फ कोलकाता ही क्यों आसपास की तस्वीर जो बदली है उसमें सबसे बड़ा हाथ मंत्री के तौर पर फिरहाद का ही माना जाता है। 19 दिसम्बर को चुनाव होने हैं और फिरहाद हकीम खुद वार्ड 82 से चुनाव लड़ रहे हैं, इस भरोसे के साथ कि तृणमूल बहुमत के साथ बोर्ड बनाएगी। फिलहाल किस तरह चुनाव की जिम्मेदारियां वे निभा रहे हैं, उस बारे में उन्होंने बात की सन्मार्ग से। पेश हैं उनसे हुई बातचीत के प्रमुख अंश :
* विधानसभा में तीसरी जीत का असर कोलकाता नगर निगम के चुनाव पर कितना पड़ने वाला है ?
पूरा असर पड़ने वाला है। विधानसभा चुनाव में कोलकाता की 11 विधानसभा सीटें तृणमूल ने जीती हैं। इस आंकड़े के हिसाब से अगर 132 सीट भी तृणमूल जीतती है तो हमारा बोर्ड बनना तय है। मैं भरोसा रखता हूं यहां के लोगों से कि निगम ने जो काम किया है पिछले दिनों, उसे देखते हुए जनता तृणमूल को ही वोट देगी।
* मेयर के तौर पर आपने कोलकाता की छवि बदली है, लोगों की पसंद भी आप हैं, इसमें आपकी राय क्या है ?
आभारी हूं लोगों का, जो उन्होंने मुझे और मेरे काम को पसंद किया। लोकतंत्र में विधायक तय करते हैं लीडर ऑफ पार्टी कौन होगा, वैसे ही निगम में पार्षद तय करते हैं कि मेयर कौन होगा। पार्टी का डिसिप्लींड लीडर हूं, जो निर्णय सब करेंगे उसे मैं निश्चित तौर पर मानूंगा।
* आप खुद उम्मीदवार हैं, साथ ही 144 वार्डों की जिम्मेदारी भी आपके कंधों पर है, चुनौती कितनी बड़ी है ?
कोई चुनौती नहीं है, आराम से तृणमूल का बोर्ड हम बनाएंगे। मेरा मानना है कि 130 से 140 सीटें जीत रहे हैं। 21 दिसंबर को तृणमूल बहुमत के साथ वापस आएगी ये मेरा मानना है।
* विधानसभा चुनाव में भाजपा की हवा अच्छी थी, इस निगम चुनाव में क्या विपक्ष भाजपा होगी ?
मेरा मानना है विपक्ष में भाजपा नहीं आएगी, क्योंकि भाजपा की शॉर्टटर्म पॉलिटिक्स न सिर्फ खत्म हुई बल्कि जनता के सामने एक्सपोज हो गयी है। भाजपा का अस्तित्व नहीं है। जिन्हें टिकट मिला है वह खुलकर प्रचार के लिए सड़क पर नहीं निकल रहे हैं, इसलिए नहीं कि उन्हें गुण्डगर्दी का डर है बल्कि इसलिए कि जनता के पास कहने का उनके पास कुछ नहीं है।
* तृणमूल बोर्ड बनाती है तो और कितना बदलेगा कोलकाता ?
कोलकाता एवर चेंजिंग है और बदलता रहेगा। आज कोलकाता जो है वह 10 साल पहले नहीं था। 10 साल बाद जो कोलकाता होगा वह आज नहीं है। कोलकाता का नया रूप हमेशा मिलता रहेगा। नयी तकनीक की सहायता लेकर ड्रेनेज व्यवस्था ठीक करनी होगी। कंजरवेंसी को और मॉडर्नाइज करना होगा। वाटर सप्लाई दुरुस्त करनी होगी। प्रदूषण न बढ़े इसलिए ग्रीन कोलकाता को बढ़ावा देना होगा। कार्बन पार्टिकल्स दबाने के लिए फॉगिंग सिस्टम और तंदरुस्त करनी होगी। कोलकाता नगर निगम को और ट्रांसपरेंट करना होगा। निगम में लोगों को न आना पड़े, घर बैठे एक क्लिक में काम हो, ऐसी होगी कोलकाता नगर निगम की सर्विंग। टॉक टू मेयर यूं ही चलेगा। एक ऐप बनेगा जिसके जरिये कोलकाता की हर समस्या मेयर के सामने तस्वीर के साथ आएगी, जिसका हाथोंहाथ समाधान किया जाएगा। दुआरे समाधान कोलकाता का अगला मिशन है।
* सरकारी योजनाओं का लाभ मिल रहा, कोलकाता की किन परियोजनाओं को दिखाकर जनता से वोट मांग रहे हैं ?
गवर्नेंस, बेहतरीन सर्विस ही हमारा चुनावी हथियार है। जब बुलाओ हम हाजिर हैं।
* 144 उम्मीदवारों में हेवीवेट होने के साथ मेयर पद के प्रबल दावेदार भी आप माने जा रहे हैं, ऐसा हुआ तो प्राथमिकताएं क्या होंगी ?
कोलकाता को कल्चरल हेरिटेज की सौगात मिलेगी। कोलकाता की संस्कृति को कितना बढ़ाया जाएं उससे जुड़े कार्यक्रम को बढ़ावा दिया जाएगा ताकि विश्वमंच पर कोलकाता का नाम दर्ज हो।

Visited 125 times, 1 visit(s) today
शेयर करें

मुख्य समाचार

IND vs PAK T20 World Cup: भारत-पाकिस्तान मैच के टिकट का दाम सुनकर चौंक जाएंगे

नई दिल्ली: न्यूयॉर्क में होने वाले ICC टी-20 विश्वकप में भारत और पाकिस्तान की टीमें भिड़ेंगी। अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) अमेरिका में क्रिकेट को बढ़ावा आगे पढ़ें »

IPL 2024: KKR के खिलाड़ियों को गौतम गंभीर ने दे डाली नसीहत, बोले…

कोलकाता: 22 मार्च से IPL शुरू होने जा रहा है। पूर्व भारतीय क्रिकेटर गौतम गंभीर की घर वापसी हुई। पिछले सीजन तक लखनऊ सुपर जायंट्स आगे पढ़ें »

ऊपर
error: Content is protected !!