बाबूघाट बस स्टैंड से बसें हटाने की कवायद शुरू, बस संगठनों ने जतायी आपत्ति

कुछ बस रूटों को लेकर जारी किया गया नोटिफिकेशन
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : एक बार फिर बाबूघाट बस स्टैंड से बसें हटाने की कवायद राज्य के परिवहन विभाग ने शुरू कर दी है। इस संबंध में शुक्रवार को परिवहन विभाग की ओर से एक नोटिफिकेशन जारी कर कहा गया कि 30सी, 30सी/1, 213ए/213/1 व 248 बस स्टैैंड को तुरंत प्रभाव से हटाना होगा। इस पर बस संगठनों ने आपत्ति जाहिर की है।
कुछ रूटों का ही उल्लेख क्यों ?
इधर, इस नोटिफिकेशन को लेकर सवाल उठाये जा रहे हैं कि केवल कुछ बस रूटों का ही उल्लेख क्यों​ किया गया है। यहां उल्लेखनीय है ​कि बाबूघाट से रोजाना 600 स्थानीय बसें छूटती हैं जबकि दूरगामी बसों की संख्या लगभग 350 है। बाबूघाट से झारखण्ड, ओडिशा, बिहार के लिए भी बसें जाती हैं। ऐसे में बस संगठनों की ओर से सवाल किया गया कि केवल कुछ रूटों के बारे में ही क्यों कहा गया है।
सांतरागाछी शिफ्ट होने पर बढ़ जायेगी दूरी
बस संगठनों का कहना है कि बाबूघाट से बस स्टैंड सांतरागाछी शिफ्ट होने की बात की जा रही है पर दूरी काफी बढ़ जायेगी। ऑल बंगाल बस मिनी बस समन्वय कमेटी के महासचिव राहुल चटर्जी ने कहा कि दक्षिणेश्वर से बाबूघाट की रूट में कोई बस चलती है तो उसकी दूरी जितनी होगी, उससे अधिक दूरी केवल सांतरागाछी बस स्टैंड तक ले जाने में ही तय करनी पड़ेगी। इससे पहले जब मेट्रो के काम के लिए बीबीडी बाग बस स्टैंड को ​शिफ्ट किया गया था तो उस समय हमसे स्थानों के विकल्प के बारे में पूछा गया था, लेकिन इस बार केवल सांतरागाछी को विकल्प बस स्टैंड के तौर पर दे दिया गया है।
खुदरा व्यवसायियों पर पड़ेगा गहरा असर
ज्वाइंट काउंसिल ऑफ बस सिंडिकेट के महासचिव तपन बनर्जी ने कहा कि हावड़ा, हुगली से आने वाले लोग बाबूघाट बस स्टैंड से बस पकड़ते हैं, लेकिन सांतरागाछी शिफ्ट होेने पर ये लोग क्या करेंगे। जो दूरगामी बसें ओडिशा, बिहार जाती हैं, उसमें काफी खुदरा व्यवसायी अपने सामान ले जाते हैं। बड़ाबाजार से काफी संख्या में खुदरा व्यवसायी इन बसों से जाते हैं जिन्हें काफी समस्या होगी। अन्य वैकल्पिक स्थान पर संरचना का पूरी तरह विकास नहीं हो पाने पर आम लोगों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ेगा। हावड़ा की फेरी सेवा भी इससे जुड़ी हुई है, इस तरह बस स्टैंड हटाने पर पूरी कनेक्टिविटी और फीडर सर्विस ही बंद हो जायेगी।
बस उद्योग की हालत जर्जर, स्टैंड हटाने से समस्या
सिटी सबबर्न बस सर्विसेज के टीटो साहा नेे कहा कि ऐसे समय में जब बस उद्योग की हालत अत्यंत जर्जर है, उस समय बस स्टैंड को हटाने से रूटों की व्यवहार्यता ही समाप्त हो जायेगी। वर्ष 2023-24 तक काफी संख्या में बस रूटों के बैठ जाने की संभावना है, ऐसे समय में इस तरह बाबूघाट से बस स्टैंड को हटाये जाने का कोई तात्पर्य नहीं है।
इस दिन जारी हुआ था पहला नोटिफिकेशन
गत 11 अप्रैल 2022 को राज्य के परिवहन विभाग द्वारा पहली बार नोटिफिकेशन जारी किया गया था। इसमें कहा गया था कि अगले 14 दिनों के अंदर ही बाबूघाट से बस स्टैंड को सांतरागाछी में ​शिफ्ट करना होगा। हालांकि उस समय से ही निजी बस संगठनों द्वारा इसे लेकर आपत्ति जाहिर की जा रही है जिस कारण अब तक बस स्टैंड को शिफ्ट नहीं किया जा सका है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बारानगर में नाले से व्यक्ति का शव बरामद

बारानगर : बारानगर थाना अंतर्गत लेबू बागान स्थित एक नाले से रविवार की सुबह व्यक्ति का शव बरामद किया गया। सुबह मॉर्निंग वॉक करने निकले आगे पढ़ें »

डायमंड हार्बर में शुभेन्दु की सभा को लेकर अशांति फैलाने के आरोप में 44 गिरफ्तार

दक्षिण 24 परगना: डायमंड हार्बर के लाइट हाउस मैदान में भाजपा नेता व विरोधी दल के नेता शुभेन्दु की सभा को लेकर अशांति फैलाने के आगे पढ़ें »

ऊपर