एसएससी मामले में 21 करोड़ को लेकर तापस से फिर ईडी ने की पूछताछ

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : एसएससी मामले में 21 करोड़ को लेकर शनिवार को मानिक भट्टाचार्य के करीबी तापस मंडल से ईडी की टीम ने घंटों पूछताछ की। राज्य के बहुचर्चित शिक्षक नियुक्ति भ्रष्टाचार मामले में गिरफ्तार प्राथमिक शिक्षा परिषद के पूर्व अध्यक्ष और तृणमूल कांग्रेस के विधायक मानिक भट्टाचार्य को लेकर उन्होंने पहले भी कई गंभीर आरोप लगाए हैं। इसके बाद उन्हें मुकरते हुए भी देखा गया है। ईडी ने हाल ही में तापस के दो अकाउंटेंट से पूछताछ की थी। इसके बाद कुछ नये तथ्य सामने आये थे। इसे लेकर शनिवार को तापस को साल्टलेक के सीजीओ कॉम्प्लेक्स स्थित केंद्रीय एजेंसी के दफ्तर में बुलाया गया था।
कॉले​जों के ​अधिकारियों व कर्मियों से भी ईडी कर चुकी है पूछताछ
मानिक भट्टाचार्य के सरंक्षण में वे कई बीएड कॉलेज चलाते थे। इनमें पढ़ने वाले छात्रों को गैरकानूनी तरीके से शिक्षक की नौकरी दी गई है। इसमें और किसकी भूमिका थी, कितने रुपये लिए जाते थे, कौन-कौन से लोग शामिल थे, इसे लेकर इससे पहले वहां के अधिकारियों और कर्मियों से ईडी की टीम पूछताछ कर चुकी है। ईडी की टीम ने उनसे पूछा कि नौकरी देने के लिए क्या कुछ पैरामीटर था और किस तरह से नियुक्तियां दी जाती थीं। परत दर परत तापस मंडल से ईडी की टीम ने पूछताछ की। सूत्रों की माने तो काफी जानकारियां तापस ने अधिकारियों को मुहैया करवायी है। सूत्रों ने बताया है कि 50 कॉलेजों के अधिकारियों को पूछताछ के लिए ईडी ने तलब भी किया है।
300 के बदले 16 गुना रुपये लिये गये थे छात्रों से
ईडी सूत्रों के मुताबिक नियमों की अनदेखी की गयी थी। नियमानुसार रजिस्ट्रेशन फीस केवल 300 रुपये है लेकिन छात्रों से 16 गुणा यानी कि 5000 रुपये लिये गये थे। इन सभी छात्रों से कुल 20 करोड़ 74 लाख रुपये की वसूली हुई थी जो सीधे मानिक भट्टाचार्य के पास जाने का आरोप है। अब मानिक भट्टाचार्य से कहां – कहां गया था, इस बारे में पूछताछ पर तापस ने बताया है कि उन्हें इस बारे में कुछ भी नहीं पता है। वहीं 600 से अधिक प्राइवेट बीएड कॉलेजों से संबंधित कई सवाल ईडी ने उनसे किये। आरोप है कि इन्हीं में से अधिकतर लोगों से रुपये लेकर इन्हें शिक्षक के तौर पर नियुक्त किया गया है। सूत्रों की माने तो ईडी की टीम इस मामले में कई शिक्षकों का भी बयान रिकार्ड कर रही है। वहीं अभियुक्तों से पूछताछ ​जारी है। जिन लोगों को फिर से तलब किया गया है उनके लिए सवालों की सूची बनाई जा रही है।
मिनर्वा एजुकेशन वेलफेयर सोसाइटी के अकाउंट को लेकर भी हुई पूछताछ
तापस की संस्था मिनर्वा एजुकेशन वेलफेयर सोसाइटी के अकाउंट में करोड़ों रुपये के लेनदेन को लेकर पूछताछ की गयी है। इससे मानिक किस तरह से जुड़े थे, इस बारे में भी पूछताछ की गयी। कैसे शिक्षक नियुक्ति के रुपये को ब्लैक से ह्वाइट किया गया, इस बारे में ईडी की टीम जानना चाहती है। तापस से हुई पूछताछ में सामने आए तथ्य बेहद महत्वपूर्ण और मददगार साबित हो सकते हैं। ईडी की टीम अब जल्द ही इन सबकी संपत्तियों को अटैच कर सकती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

त्रिभुवन एग्रो प्रोजेक्ट चिटफंड कंपनी के डायरेक्टर को सीबीआई ने किया गिरफ्तार

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : चिटफंड घोटाले के एक मामले में सीबीआई ने राजीव दास नामक एक व्यवसायी को गिरफ्तार किया है। वह त्रिभुवन एग्रो प्रोजेक्ट नामक आगे पढ़ें »

महेशतल्ला में अवैध शराब के अड्डे में युवक की हत्या

सन्मार्ग संवाददाता दक्षिण 24 परगना : महेशतल्ला थाना क्षेत्र के बाटानगर मल्लिक बाजार के सड़क किनारे स्थित एक अवैध शराब के अड्डे में शुक्रवार की रात आगे पढ़ें »

ऊपर