600 दिन बाद ड्रग्स की परीक्षण रिपोर्ट नहीं मिली, हाईकोर्ट ने किया गृह सचिव को तलब

ड्रग्स तस्करी के मामले में 600 दिनों से जेल में कैद है अभियुक्त
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : गिरफ्तारी को 600 दिन बीत चुके हैं लेकिन अभी तक यह पता नहीं चल पाया है कि अभियुक्त के पास से किस तरह का मादक पदार्थ बरामद हुआ है। नतीजतन, वह लगभग डेढ़ साल से जेल में है। यह खबर मिलते ही कलकत्ता हाई कोर्ट ने राज्य के गृह सचिव को तलब किया। हाईकोर्ट ने गृह सचिव को मंगलवार की सुबह 10 बजे से पहले पेश होने के लिए कहा है। इस मामले की सुनवाई के दौरान हैरान जज ने पूछा, क्या किसी अभियुक्त को इतने दिनों तक जेल में रखा जा सकता है? कोर्ट ने जानना चाहा कि ड्रग्स मामले में अभियुक्त के बारे में राज्य की क्या राय है? बनगांव थाने की पुलिस ने 22 फरवरी 2021 को जहांगीर मंडल नामक युवक को गिरफ्तार किया था। उस पर ड्रग्स की तस्करी का आरोप है। पीड़ित की जेब से मेथम्फेटामाइन बरामद किया गया था, लेकिन राज्य के पास यह जांचने के लिए बुनियादी ढांचा नहीं है कि यह किस तरह की दवा है। इसलिए इसे पता लगाने के लिए गाजियाबाद की एक प्रयोगशाला में भेजा गया। बताया जाता है कि वहां से अभी रिपोर्ट नहीं आई है। इस बीच जहांगीर 600 दिनों से जेल में है। जहांगीर मंडल ने जमानत के लिए कलकत्ता हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। सोमवार को हुई सुनवाई में जस्टिस जयमाल्या बागची की खंडपीठ ने राज्य से रिपोर्ट मांगी। इस दिन राज्य ड्रग कंट्रोल एंड रिसर्च लेबोरेटरी के निदेशक ने कोर्ट को बताया कि राज्य में ड्रग सैंपल टेस्टिंग का ऐसा इंफ्रास्ट्रक्चर उपलब्ध नहीं है। उसके बाद जज का सवाल था कि क्या किसी आरोपी को इतने लंबे समय तक हिरासत में रखा जा सकता है? इस पर राज्य का पक्ष जानने के लिए हाईकोर्ट ने गृह सचिव को तलब किया है। मंगलवार की सुबह दस बजे उन्हें कोर्ट में पेश होने का आदेश दिया गया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

भा.वि.प्रा, पूर्वी क्षेत्र मुख्यालय ने मनाया गणतंत्र दिवस

कोलकाताः 74वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर मनोज गंगल, क्षेत्रीय कार्यपालक निदेशक, भा.वि.प्रा, पूर्वी क्षेत्र ने भा.वि.प्रा, सीआईएसएफ और अन्य हितधारकों के अधिकारियों एवं कर्मचारियों आगे पढ़ें »

विश्व भारती ने अमर्त्य सेन को एक और पत्र किया जारी , तीन दिन में दूसरा पत्र भेजा गया

कोलकाता : नोबेल पुरस्कार से सम्मानित अमर्त्य सेन को भेजे गए एक ताजा पत्र में विश्व भारती विश्वविद्यालय ने शुक्रवार को अमर्त्य सेन से शांति आगे पढ़ें »

ऊपर