दिलीप ने कहा, बंगाल छोड़कर भाग गये हैं विश्वकर्मा

सन्मार्ग संवाददाता

कोलकाता : भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दिलीप घोष के खिलाफ अब धार्मिक भावनाओं को आहत करने का आरोप लगा है। दरअसल, भाजपा नेता ने दावा किया कि भगवान विश्वकर्मा राज्य से भाग गये हैं। इस बयान के विरोध में मुखर होते हुए तृणमूल ने दिलीप घोष से माफी मांगने की मांग की। शनिवार को मिदनापुर में दिलीप घोष ने कहा, ‘इस बार का विश्वकर्मा पूजा सबसे अधिक निराशाजनक है। उद्योग नहीं है, विश्वकर्मा से धन आता है। कट मनी, सिंडिकेट के रुपये भी नहीं है। पूजा की रौनक चली गयी है। उद्योग, नौकरी नहीं होने पर कौन विश्वकर्मा पूजा करेगा ? विश्वकर्मा बंगाल छोड़कर भाग गये हैं। विश्वकर्मा पूजा कर कोई लाभ नहीं है, काम के माध्यम से विश्वकर्मा की आराधना होनी चाहिये। जब आम लोग आनंद में रहेंगे, तब राज्य में विश्वकर्मा आयेंगे, पूजा होगी।’ उन्होंने कहा, ‘ गांवों में जहां अत्याचार हो रहे हैं, ये अधिक दिन नहीं चलेगा। आगामी पंचायत चुनाव में इसका न्याय होगा। आम लोग न्याय करेंगे। इस बार भी अगर डर दिखाकर जीतने की सोच रहे हैं तो मैं लोगों से कहूंगा कि वे कच्चा बांस काटकर रखें। केवल कच्चा बांस नहीं, बल्कि गांठों वाला बांस अपने साथ रखे। पश्चिम बंगाल में राजनीति करने पर जान पर खेलकर राजनीति करनी होती है।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

सप्तमी पर महानगर में ट्रैफिक व्यवस्था हुई प्रभावित

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : महासप्तमी के अवसर पर रविवार को महानगर की सड़कों पर लोगों की भारी भीड़ उमड़ी। पूजा पंडाल घूमने के लिए लोगों की आगे पढ़ें »

पार्थ के खिलाफ दाखिल चार्जशीट का तकनीकी रोड़ा

अभी इंतजार है राज्य सरकार की अनुमति का सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : टीचर नियुक्ति घोटाले में सीबीआई की तरफ से पहली चार्जशीट अलीपुर के सीबीआई कोर्ट में आगे पढ़ें »

ऊपर