खतरनाक रूप लेता डेंगू : कोलकाता में एक दिन में 5 की मौत

बीते दो महीने में डेंगू के प्रकोप से महानगर में 21 की मौत
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : कोरोना के प्रकोप से बाहर निकलने के बाद लोग जब सामान्य जीवन में वापस लौटने की कोशिश में जुटे हैं, उसी दौरान महानगर में एक और खतरनाक संक्रमण का प्रकोप तेजी से बढ़ता जा रहा है। बीते चार वर्षों की तुलना में इस साल डेंगू की स्थिति सबसे भयावह है। स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों के अनुसार कोलकाता में डेंगू का आंकड़ा पांच हजार पार कर चुका है। एक तरफ जहां स्वास्थ्य विभाग ने कोलकाता नगर निगम को डेंगू की रोकथाम के लिए कड़ी फटकार लगाते हुए सक्रियता के साथ कार्य करने का निर्देश दिया है तो वहीं दूसरी तरफ निगम के अधिकारी डेंगू की बढ़ती रफ्तार के लिए आम लोगों के माथे पर ठीकरा फोड़ रहे हैं। कोलकाता में डेंगू की भयावहता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि बीते 24 घंटे में शहर के पांच प्रमुख अस्पतालों में पांच लोगों की डेंगू से मौत हो गई जिनमें दो महिलाएं शामिल हैं। मृतकों में दो लोग टेंगरा इलाके के निवासी थे। डेंगू से पहली मौत की घटना सोमवार को साल्टलेक के आमरी अस्पताल से सामने आई जहां केष्टोपुर के निवासी 36 वर्षीय सोमनाथ दे की मौत हो गई। सोमनाथ को शनिवार को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। डेंगू टेस्ट किए जाने पर वो एनएस1 पॉजिटिव पाए गए थे। जानकारी के मुताबिक व्यक्ति के तेजी से घट रहे प्लेटलेट की संख्या को देखते हुए उन्हें प्लेटलेट चढ़ाया गया। हालांकि, सोमवार को उनकी स्थिति काफी गंभीर हो गई। अस्पताल सूत्रों के अनुसार सोमवार की सुबह 9.35 बजे डेंगू की वजह से मल्टी ऑर्गन फेलियर होने के कारण उनकी मौत हो गई। डेंगू से दूसरी मौत की घटना एनआरएस अस्पताल से सामने आई जहां अस्पताल के ही एक सफाई कर्मचारी बुबाई हाजरा की डेंगू से मौत हो गई। टेंगरा के निवासी बुबाई बीते कुछ दिनों से अस्पताल में भर्ती थे। रविवार को उसकी स्थिति गंभीर होने पर उसे सीसीयू में भर्ती कराया गया था। सोमवार को उसकी डेंगू से मौत हो गई। दूसरी तरफ टेंगरा की ही निवासी एक गर्भवती महिला रिंकी भट्टाचार्या की भी डेंगू से मौत हो गई। महिला को गंभीर स्थिति में आर जी कर अस्पताल में भर्ती कराया गया था। हालांकि डॉक्टरों के प्रयास के बाद भी महिला को बचाया नहीं जा सका। 33 वर्षीय मोनिका बेगम को रविवार की रात 11.45 बजे बेलियाघाटा आईडी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। तपसिया निवासी महिला का डेंगू परीक्षण किए जाने जाने पर उन्हें डेंगू पॉजिटिव पाया गया। सोमवार की दोपहर महिला की मौत हो गई। वहीं मुर्शिदाबाद के भगवानपुर के निवासी अबू सैयद हवालदार को डेंगू पॉजिटिव पाए जाने पर परिवार वालों ने ईएम बायपास स्थित एक निजी अस्पताल में उन्हें भर्ती कराया था। सोमवार की सुबह उनकी स्थिति अचानक गंभीर हो गई। दोपहर के वक्त उसकी मौत हो गई। गौरतलब है कि बीते एक दिन में राज्य में डेंगू से अब तक की यह सबसे बड़ी घटना है। वहीं महानगर में डेंगू से मौत का आंकड़ा 21 पहुंच गया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पुलिस बनकर घर से लूट ले गये लाखों के सामान

बिष्‍णुपुर थानांतर्गत इलाके की घटना सन्मार्ग संवाददाता दक्षिण 24 परगना : बिष्‍णुपुर थानांतर्गत तपना इलाके में बुधवार की देर रात डकैतों के एक गिरोह ने खुद को आगे पढ़ें »

इंसान को बर्बाद कर देते हैं घर में लगे ये 5 पेड़

कोलकाता : पेड़-पौधे न सिर्फ घर की सुंदरता को बढ़ाते हैं बल्कि आर्थिक उन्नति के द्वार भी खोलते हैं। वास्तु शास्त्र में घर में पेड़-पौधे आगे पढ़ें »

ऊपर